समुद्र तट से टकराने के बाद कमजोर पड़ा निवार, भारी बारिश से नुकसान | भारत | DW | 26.11.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

समुद्र तट से टकराने के बाद कमजोर पड़ा निवार, भारी बारिश से नुकसान

बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र से पैदा हुआ चक्रवात 'निवार' रौद्र रूप धारण कर देर रात तमिलनाडु और पुडुचेरी के तट से टकराया. इस दौरान तेज हवा के साथ बारिश हुई. भारी बारिश के कारण जिंदगी अस्त-व्यस्त हो गई.

चक्रवात निवार लैंडफाल के बाद कमजोर पड़ गया और मौसम विभाग ने बताया कि इसकी श्रेणी अब 'बहुत भीषण चक्रवाती तूफान' से 'भीषण चक्रवाती तूफान' हो गई है. पुदुचेरी के तटीय इलाकों से टकराने के दौरान पेड़, बिजली के खंभे, कमजोर मकानों को नुकसान पहुंचा. निवार 25 नवंबर की रात 11:30 बजे से 26 नवंबर की रात 2:30 बजे के बीच पुडुचेरी के पास तट को पार किया. रात 2.30 बजे तक इस चक्रवात निवार की रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा से 130 किलोमीटर प्रति घंटा रही. तूफान के कारण भारी बारिश हुई और कुछ इलाकों में पानी भी भर गया. तमिल नाडु के सबसे बड़े शहर चेन्नई की सड़कें पानी से भर गईं.

चेन्नई में पेड़ उखड़ गए और लोगों को आने जाने के लिए घुटने तक पानी में डूबकर जाना पड़ा. हालांकि तूफान के कारण अब तक किसी की मौत की खबर नहीं है. चेन्नई में दुकानदार एस शक्तिवेल ने बताया, "इस साल पहले से तैयारियों की वजह से हालात खराब नहीं हुए. सिर्फ कुछ पेड़ गिर गए और सड़कों पर पानी भर गया. अब तक हम लोग सुरक्षित हैं."

Indien Wirbelsturm «Nivar»

चेन्नई की सड़कों पर भारी बारिश के बाद भरा पानी.

चेन्नई के नगर निगम ने ट्विटर पर कहा कि वह सड़कों को साफ करने के काम में जुटा हुआ. निवार के तटीय इलाकों से टकराने से पहले करीब दो लाख लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया गया था. तमिल नाडु और पुदुचेरी में सरकारों ने पहले से ही इस चक्रवात से निपटने की तैयारी कर ली थी जिससे नुकसान कम हुआ. केंद्र ने भी हर संभव मदद का भरोसा दिया था और एनडीआरएफ की कुछ टीमें प्रभावित इलाकों में तैनात की गईं थीं.

मौसम विभाग के मुताबिक अगले कुछ घंटे में चक्रवाती तूफान उत्तर और उत्तर पश्चिम दिशा की ओर बढ़ता रहेगा और आगे जाकर कमजोर पड़ जाएगा.

एए/सीके (रॉयटर्स)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन