बंदूकों और तोपों के बीच सारसों का बसेरा | पर्यावरण | DW | 13.09.2021
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

पर्यावरण

बंदूकों और तोपों के बीच सारसों का बसेरा

सत्तर साल पहले जब दोनों कोरियाई देशों के बीच युद्ध खत्म हुआ तो उनके बीच चार किलोमीटर चौड़ा विसैन्यीकृत क्षेत्र अस्तित्व में आया जिसे डीएमजेड कहते हैं. बेहद कड़ी सुरक्षा वाली ये सीमा आज कई परिंदों का बरेसा है.

वीडियो देखें 05:33