कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या 6 लाख के पार | दुनिया | DW | 28.03.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कोरोना वायरस से पीड़ितों की संख्या 6 लाख के पार

इटली में शुक्रवार को 24 घंटे में मरने वालों की तादाद अब तक की सारी सीमाओं को तोड़ 900 के पार चली गई. यह एक दिन में कोरोना के कारण एक देश में होने वाली सबसे ज्यादा मौत है.

इस वक्त कोरोना वायरस से पीड़ित सबसे ज्यादा लोग अमेरिका में हैं. फिलहाल यहां 1 लाख 4 हजार 837 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए हैं और यह संख्या लगातार बढ़ रही है. अमेरिका में अब तक 1,711 लोगों की मौत हुई है जबकि इटली में 9,134 लोग अब तक मारे जा चुके हैं, बीते कई दिनों सें वहां हर रोज 500 से ज्यादा लोगों की जान जा रही है. इस बीच दुनिया भर में कोविड-19 से प्रभावित लोगों की संख्या अब 6 लाख से ज्यादा है और महामारी के कारण अब तक 28 हजार लोगों की मौत हुई है. बीते दो दिनों से हर रोज एक लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं. सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में अमेरिका शीर्ष पर है उसके बाद इटली और फिर चीन की बारी आती है जहां से यह बीमारी शुरू हुई.

यूरोप में स्पेन और जर्मनी भी इसमें घिरते जा रहे हैं. स्पेन में पीड़ितों की संख्या 65 हजार और जर्मनी में 53 हजार को पार कर गई है. स्पेन में 5,690 लोगों की जान गई है जबकि जर्मनी में 395. स्पेन के लिए बीते 24 घंटे सबसे ज्यादा घातक साबित हुए. यहां 832 लोगों की जान गई है जो एक दिन में अब तक स्पेन के लिए सबसे ज्यादा है.  स्वास्थ्य सेवाओं और टेस्ट की सेवा को सुदृढ़ कर जर्मनी मौत की संख्या को एक हद तक रोकने में कामयाब हुआ है. इस समय जर्मनी ने हर हफ्ते पांच लाख लोगों का टेस्ट करने की क्षमता हासिल कर ली है. जर्मनी में पूरी तरह तालाबंदी नहीं है लेकिन जरूरी सेवाओं को छोड़ बाकी गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है. सरकार का कहना है कि फिलहाल जो हालात है उन्हें देख कर नहीं लगता कि 20 अप्रैल से पहले पाबंदियों को हटाया जा सकेगा.

अमेरिका ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दो हजार अरब डॉलर के पैकेज को मंजूरीर दी है. इस पैसे से कोरोना पर लगाम कसने के साथ ही अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए उपाय किए जाएंगे. अमेरिका कई देशों को कोरोना से लड़ने में भी मदद दे रहा है. अमेरिकी सरकार ने कोरोना से प्रभावित 64 देशों को मदद के लिए चुना है जिनमें भारत भी शामिल है.

इस बीच दक्षिण कोरिया ने कोरोना पर लगाम कसने में बड़ी कामयाबी हासिल की है अब यहा पीड़ितों से ज्यादा संख्या उन लोगों की है जो इलाज के बाद स्वस्थ हो कर घर लौट गए हैं. दक्षिण कोरिया ने बड़े पैमाने पर टेस्ट के जरिए यह सफलता पाई है. यहां कुल 9,478 लोग इसकी चपेट में आए और इनमें से 144 लोगों की जान गई और 4,811 लोगों का इलाज हो चुका है.

इस बीच चीन ने अपने देश में लोगों के आने जाने पर व्यापक रोक लगाने की मुहिम शुरू की है. इसके तहत दुनिया भर से आने वाले लोगों को रोकने का फैसला किया गया है. जिन लोगों के पास वीजा है उसे भी स्थगित और रद्द किया जा रहा है. इस बीच वुहान में जिंदगी धीरे धीरे सामान्य हो रही है. यहीं पर कोरोना पैदा हुआ और फिर यहां से पूरी दुनिया में फैला.

अब तक सुरक्षित नजर आ रहे चीन के आसपास के कुछ देशों में संक्रमण बढ़ा है. शनिवार को मलेशिया में संक्रमण के 159 नए मामले सामने आए, यहां अब तक 2,320 लोग कोरोना की चपेट में आए हैं और 26 लोगों की मौत हुई है. इसी तरह इंडोनेशिया में 109 नए मामलों के साथ कुल संख्या 1,555 पर पहुंच गई है. इंडोनेशिया में 87 लोगों की मौत हुई है.

दक्षिण अफ्रीका में तालाबंदी शुरू होने के बाद अब रूस और आयरलैंड ने भी धीरे धीरे लोगों की गतिविधियों पर पाबंदी लगानी शुरू कर दी है. यहां रेस्तरां और कैफे बंद करने के आदेश दिए गए हैं. रूस में शुक्रवार तक 1000 लोगों में कोराना का संक्रमण हो चुका है. और अब यहां काम बंद करने के आदेश दिए गए हैं. यह पहला हफ्ता होगा जब रूस में दफ्तर बंद होंगे. रूसी सरकार के प्रवक्ता ने इस बात पर जोर दिया कि फिलहाल यहां महामारी जैसी स्थिति नहीं है. यूरोप के बाकी देशों से रूस की स्थिति फिलहाल इस मामले में बेहतर नजर आ रही है.

कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या "ना" करें

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन