90 की उम्र में फिर रिफ्यूजी बनना पड़ा | दुनिया | DW | 09.07.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

90 की उम्र में फिर रिफ्यूजी बनना पड़ा

गुल जहर की उम्र 90 साल है और जिंदगी तीसरी बार वह रिफ्यूजी बनी हैं. वह अपनी धरती पर शांति से मरना चाहती हैं. लेकिन क्या यह कभी हो पाएगा...

वीडियो देखें 02:00

रोहिंग्या लोगों के बिना बर्मा का रखाइन ऐसा दिखता है

DW.COM

और पढ़ें