24 यूरोपीय देशों में बेरोकटोक आ जा सकेंगे लोग | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 20.12.2007
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

जर्मन चुनाव

24 यूरोपीय देशों में बेरोकटोक आ जा सकेंगे लोग

लोगों के लिये ख़ुशी की बात सुरक्षा के लिये परेशानी

शेंगन ज़ोन का विस्तार

शेंगन ज़ोन का विस्तार

भारत ही नहीं बल्कि विश्व के किसी भी देश से यूरोप की यात्रा पर आने वाले लोगों के लिये एक ख़ुशख़बरी है कि अब यूरोप का वीसा लेने पर एक साथ 24 देशों की यात्रा हो सकेगी। यह ख़बर यूरोप के में रहने वालों के लिये भी उतनी ही महत्वपूर्ण है।

अब अगर आप यूरोप की यात्रा पर हैं तो आप बिना किसी परेशानी के स्पेन, पोलैंड इस्टोनिया किसी भी देश की यात्रा बिना विसा के कर सकते हैं। आज रात बारह बजे के बाद शेंगन झोन में आने वाले देशों की संख्या 15 से बढ़ कर 24 हो जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि ग़ैरक़ानूनी इमीग्रेशन को रोकने के लिये यह कदम उठाया गया है। इसी के साथ यूरोप के 40 करोड़ नागरिकों को आने जाने और रहने के लिये एक बड़ा इलाक़ा मिल जाएगा। यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जोसे मान्युएल बारोसो बड़े उत्साह से इस बारे में बताते हैं

21 दिसंबर से हम 24 देशों के भीतर बिना किसी सीमा के घूम सकते हैं। यह एक इकलौती और ऐतिहासिक उपलब्धि है। आतंरिक सीमाओं का हटाया जाना हर उस व्यक्ति के लिये नई संभावनाएं पैदा करेगा जो काम के लिये, रहने के लिये या किसी और कारण से दूसरे यूरोपीय देश जाना चाहता है। इसलिये मेरा मानना है कि यह यूरोप के विकास के लिये एक महत्वपूर्ण कदम है।

लेकिन एक समस्या जो इसके साथ खड़ी हो सकती है वह ये कि ग़ैरक़ानूनी तरीके से यूरोप में घुसने वाले, आपराधिक पृष्ठभूमि के लोग, बहुत आसानी से सीमा पार कर सकेंगे।यूरोपीय आयोग की सुरक्षा और न्याय विभाग के प्रवक्ता दोश फ्रिस्को रोस्काम आब्बिंग कहते हैं

कोई भी सुरक्षा की शत प्रतिशत गारंटी नहीं दे सकता। वैसे तो शेंगन के पहले भी संभव नहीं था ऐसे लोग हमेशा रहेंगे जो ग़ैरक़ानूनी काम करते हैं। इसलिये हम पूरी कोशिश करेंगे कि बाहरी सीमा की बहुत अच्छे से सुरक्षा की की जाए और इसके लिये हमारे पास आधुनिक तकनीक और काम करने वाले कुशल लोग है।

शेंगन देशों की बाहरी सीमा पोलैंड और बेलारुस से जुड़ी है। शेंगन समझौता यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के बीच हुआ एक ऐसा समझौता है जिसके अनुसार यूरोप के किसी भी एक देश का वीसा लेने के बाद उसी वीसा पर शेंगन जोन के किसी भी देश की यात्रा की जा सकती है। इसके अलावा इस समझौते में यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के बीच अधिकारिक और सुरक्षा मामलों पर समन्वय बनाने की भी बात कही गई है।

इस विस्तार के साथ शेंगन देशों के बीच पुलिस के बीच सामंजस्य स्थापित करना भी ज़रूरी है, ताकि एक देश से भागा अपराधी दूसरे देश में पकड़ा जा सके। अब यूरोपीय संघ के सदस्य देश आयरलैंड और ब्रिटेन को छोड़ दें तो शेंगन देशों में चेक गणराज्य, इस्टोनिया, लातविया, लिथुआनिया, माल्टा, पोलैंड, स्लोवाकिया और स्लोवानिया शामिल हैं।

संबंधित सामग्री

विज्ञापन