11 साल की लड़की को देना पड़ा बलात्कारी के बच्चे को जन्म | दुनिया | DW | 01.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

11 साल की लड़की को देना पड़ा बलात्कारी के बच्चे को जन्म

अर्जेंटीना में 11 साल की एक बच्ची के साथ उसकी दादी के बॉयफ्रेंड ने बलात्कार किया. परिवार वाले गर्भपात कराना चाहते थे लेकिन अफसर मामले को 'लटकाते रहे' और समय हाथ से निकलता रहा.

मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने अर्जेंटीना के टुकुमन प्रांत के अधिकारियों की कड़ी आलोचना की है, जिन पर इस बच्ची को समय रहते गर्भपात कराने की इजाजत नहीं देने के आरोप हैं. आखिरकार बच्ची ने सीजेरियन ऑपरेशन से बच्चे को जन्म दिया. उसका बलात्कार करने वाला व्यक्ति उसकी दादी का बॉयफ्रेंड था.

इस पूरे मामले पर रोष जताते हुए एमनेस्टी इंटरनेशनल ने ट्विटर पर लिखा, "जब आप 11 साल की बच्ची का कानूनी रूप से गर्भपात कराने के मामले को लटकाते हैं तो आप बुनियादी मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं." अर्जेंटीना में गर्भपात गैर कानूनी है लेकिन अगर गर्भ बलात्कार की वजह से ठहरा हो या फिर मां की जान को खतरा हो तो गर्भपात की इजाजत दी जा सकती है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना है कि बलात्कार की शिकार बच्ची का इस आधार पर गर्भपात कराया जाना चाहिए था. "लड़की और उसकी मां, दोनों ने स्पष्ट तौर पर समय रहते ही गर्भपात कराने की इच्छा जताई थी ताकि बच्ची के स्वास्थ्य और जीवन को बचाया जा सके."

जब गर्भ 19 हफ्तों का था, तब पहली बार यह बच्ची अस्पताल गई. एमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना है कि "तभी से उनके सामने एक के बाद एक बाधाएं खड़ी की गईं, जिनका मकसद सिर्फ इस बच्ची के मानवाधिकार का हनन करना था. राष्ट्रीय और प्रांतीय अधिकारियों ने मामले को लटकाया और बच्ची के साथ दुर्व्यवहार भी किया, जिससे उसकी जिंदगी और स्वास्थ्य को लेकर जोखिम पैदा हुए."

एल पेस अखबार के अनुसार, गर्भावस्था के 23वें हफ्ते में 26 फरवरी की रात इस इस लड़की ने सीजेरियन ऑपरेशन से एक बच्चे को जन्म दिया. नवजात शिशु का वजन 600 ग्राम था जिसके जीवित रहने की संभावना नहीं है.

दूसरी तरफ अधिकारी लापरवाही के आरोपों को खारिज करते हैं. टुकुमान की प्रांतीय स्वास्थ्य मंत्री रोजाना चाहला ने कहा, "स्वास्थ्य व्यवस्था ने गर्भपात में कोई बाधा या विलंब नहीं किया है." उनका दावा है कि लड़की की मां ही "गर्भपात को लेकर डरी हुई थी".

एके/आरपी (डीपीए)

DW.COM

विज्ञापन