हर जान है कीमती | दुनिया | DW | 22.02.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हर जान है कीमती

हर जान कीमती होती है. इस बात को मानने वाले लोग किसी भी जान को जाते हुए नहीं देख सकते. देखिये कैसे बचाई इस इंसान ने एक कुत्ते की जान.

सर्दियों में जिन देशों में बर्फ गिरती है और पारा शून्य के काफी नीचे चला जाता है, वहां झीलों और तालाबों का जमना कोई नई बात नहीं है. पानी के जम जाने के बाद लोग अक्सर उस पर सैर करने या स्कीइंग करने भी निकल पड़ते हैं. समस्या तो तब होती है जब बर्फ ठीक से न जमी हो और बोझ से टूट जाये. ऐसे इंसान या बर्फ के ऊपर चल रहे जानवर भी अचानक फंस से जाते हैं.

ऐसा अगर इंसान के साथ हो तो उसका बचना भी मुश्किल होता है क्योंकि वह पानी के अत्यंत ठंडा होने के कारण शरीर ऊर्जा खोने लगता है और इंसान तैर कर ऊपर आने की हालत में नहीं रहता. इसलिए जब एक कुत्ता बर्फीली झील में गिरा तो उसे बचाने के आगे झील में उतरने को बहुत लोग बुद्धिमानी नहीं कहेंगे. लेकिन कॉलिन ने जब अपने भाई के कुत्ते कॉपर को इस हालत में पाया तो उसे बचाने के लिए उसमें अपनी जान दांव पर लगा दी.

लेकिन जैसी की आशंका रहती है, बर्फ कॉलिन का वजन बर्दाश्त नहीं कर पाई और वह भी कुछ ही देर बाद अपने भाई के कुत्ते के पास था. लेकिन कॉलिन आखिरकार बर्फ को तोड़कर पानी से बाहर निकलने में कामयाब रहा. दोनों बच तो गये लेकिन ये कॉमेडी भी कर गये. कॉपर के शुक्रिया कहने का यही तरीका था.

विज्ञापन