हमेशा चार्ज रहने वाली बैटरी | मंथन | DW | 14.05.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

हमेशा चार्ज रहने वाली बैटरी

इस बार मंथन में देखिए कि कैसे टेंट नहीं, गत्तों से बने घरों में रहेंगे राहत शिविरों में लोग. साथ ही मोबाइल की बैटरी को हमेशा चार्ज रखने का होगा उपाय.

वीडियो देखें 00:31
अब लाइव
00:31 मिनट

मंथन 133 में खास

कंबोडिया एक ऐसा देश है जहां तरह तरह के जानवर, परिंदे और मछलियां देखे जा सकते हैं. लेकिन वक्त के साथ साथ यहां का वन्य जीवन खतरे में पड़ गया है. जंगलों की कटाई तो एक बड़ी समस्या है ही, साथ ही जंगली जानवरों का अवैध शिकार भी चिंता का सबब बना हुआ है. कई जानवरों को दवाओं के लिए मार दिया जाता है. कंबोडिया अब इस पर नकेल कसने की कोशिश कर रहा है. कैसे, देखिए मंथन में.

मोबाइल रहेगा चार्ज

मोबाइल इस्तेमाल करने वाले हर व्यक्ति ने कभी ना कभी यह अनुभव किया ही है कि जब कोई जरूरी फोन आता है तो बैटरी खत्म होने का संकेत भी आने लगता है. आप बस इतना ही कर सकते हैं कि आसपास कोई प्लग प्वॉइंट ढूंढें, फोन चार्जिंग पर लगाएं और उसके ऑन होने का इंतजार करते रहें. जल्द ही यह दिक्कत बीते कल की बात हो जाएगी. मंथन में जानिए क्या नया उपाय निकाला है रिसर्चरों ने.

गत्तों से बने घर

अधिकतर राहतशिविरों में रह रहे शरणार्थी टेंटों में रहने पर मजबूर होते हैं. इसकी वजह है. शिविर लगाने वालों के लिए टेंट खड़े करना, उन्हें एक जगह से दूसरी जगह लाना आसान होता है. जर्मनी में डार्मश्टाट शहर की टेक्निकल यूनिवर्सिटी की टीम अब लोगों को इन टेंटों से मुक्ति दिला कर गत्तों के घर दिलवाने पर काम कर रही है. देखिए मंथन में खास रिपोर्ट.

सौ से ज्यादा सालों से जारी निर्माण

बार्सिलोना में स्थित कैथीड्रल सागरादा फमिलिया स्पेन का मुख्य आकर्षण है. साल 1882 में आर्किटेक्ट अंतॉनी गाउदी ने इसका निर्माण शुरू किया. 2026 तक इसके पूरा होने की उम्मीद है. यह विशाल इमारत यूनेस्को की विश्व सांस्कृतिक धरोहरों में से एक है. कैथीड्रल को देखने लाखों की संख्या में सैलानी यहां आते हैं. स्पेन के लिए यह गर्व की बात है, लेकिन कैथीड्रल के आसपास रहने वालों के लिए यह सिरदर्द बन गया है. मंथन में जानिए आखिर क्या है परेशानी की वजह.

ऑनलाइन शॉपिंग का चस्का

ऑनलाइन शॉपिंग हमारे जीने के तरीके को बदल रही है. किताबें, जूते या कपड़े, अब सब इंटरनेट के ज़रिए ऑर्डर हो जाता है. यहां तक कि अब घर का सारा का सारा फर्नीचर भी ऑनलाइन ही ऑर्डर हो जाता है और वो भी बिना ज्यादा पैसे दिए. मंथन में होगी खास रिपोर्ट.

देखिए मंथन हर शनिवार सुबह 11 बजे डीडी नेशनल पर.

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री