हमले की हालत में जवाब की तैयारी | दुनिया | DW | 08.04.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

हमले की हालत में जवाब की तैयारी

तनावों के बीच उत्तर कोरिया एक और परमाणु परीक्षण की तैयारी में जुटा है. दक्षिण कोरिया ने कुछ संकेतों के आधार पर यह आशंका जताई है तो अपुष्ट खबरों के मुताबिक अमेरिका ने हमले की सूरत में जवाबी कार्रवाई की तैयारी कर ली है.

उत्तर कोरिया के मामले में बोलने के लिए अधिकृत किए गए दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्री रियू कील जाए ने सोमवार को संसदीय कमेटी से कहा कि ऐसे कुछ संकेत मिले हैं कि प्योंगयोंग सरकार देश के उत्तर पूर्वी हिस्से में परमाणु परीक्षण की तैयारी कर रही है. दक्षिण कोरियाई रक्षा अधिकारियों ने पहले कहा था कि उत्तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण के लिए दो भूमिगत सुरंग बनाए हैं. उत्तर कोरिया ने इनमें से एक सुरंग का इस्तेमाल 12 फरवरी को परमाणु परीक्षण के लिए किया जबकि दूसरे का अभी इस्तेमाल नहीं हुआ है.

रियू कील ने एक सांसद के सवाल के जवाब में परमाणु परीक्षण के संकेतों की बात की. सांसद ने पूछा था कि क्या उत्तर कोरिया के परमाणु केंद्र पर लोगों और गाड़ियों की गतिविधियां तेज हो गई हैं. रियू के बोलने के बाद मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि उत्तर कोरिया जब चाहे परमाणु परीक्षण करने के लिए तैयार है.

उत्तर कोरिया ने विदेशी राजनयिकों को चेतावनी दी थी कि दूतावास कर्मियों को हटा लिया जाए. दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के सुरक्षा सलाहकार ने आशंका जताई है कि उत्तर कोरिया बुधवार के आसपास हमला कर सकता है. दक्षिण कोरियाई अधिकारियों के साथ बातचीत के दौरान सुरक्षा सलाहकार किम जांग सू ने यह भी कहा कि उत्तर कोरिया की इन कार्रवाइयों का मकसद दक्षिण कोरिया और अमेरिका पर बातचीत का प्रस्ताव देने के लिए दबाव बनाना है. अमेरिका और दक्षिण कोरिया चाहते हैं कि उत्तर कोरिया छह देशों की बातचीत में शामिल हो. इसमें चीन रूस और जापान भी शामिल हैं और यह बातचीत 2009 से ही बंद पड़ी है. उत्तर कोरिया में करीब 2 दर्जन देशों के दूतावास हैं. इनमें से ज्यादातर ने फिलहाल अपने राजदूतों को वहां से निकालने की कोई योजना नहीं बनाई है.

इधर अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने अपने मिसाइल डिफेंस सिस्टम को मजबूत कर लिया है और खतरा होने पर हमले की योजना बना ली है. अमेरिका ने इस हफ्ते होने वाले एक मिसाइल परीक्षण को टाल दिया है जिससे कि तनाव न बढ़े. कोरियाई देशों के बीच तनाव बढ़ने के बाद दक्षिण कोरिया के रक्षा प्रमुख का वाशिंगटन दौरा भी फिलहाल टाल दिया गया है.

अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने खबर दी है कि दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने जवाबी हमले की तैयारी कर ली है. अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक जवाबी कार्रवाई इस तरह की होगी कि जंग को फैलने से रोका जा सके. बिना नाम जाहिर किए अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में लिखा गया है कि जवाबी हमला तुरंत होगा और इसमें समान तरह के हथियारों का इस्तेमाल कर उत्तर कोरियाई हमले की धार कुंद की जाएगी. अगर उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरियाई द्वीपों और सैन्य ठिकानों पर हमले किए तो उधर से भी उन्हीं हथियारों से तुरंत जवाब दिया जाएगा. अमेरिका रक्षा अधिकारियों का कहना है कि अगर उत्तर कोरिया अपनी नई मुसुदन मिसाइल दागता है तो वो कुछ ही सेकेंड के भीतर उसका पता लगा लेंगे. अगर इस मिसाइल का निशाना दक्षिण कोरिया, जापान या गुआम की तरफ हुआ तो इसे रास्ते में ही मार गिराया जाएगा. हालांकि अधिकारियों ने यह भी कहा कि अगर यह सिर्फ पानी की ओर जाता दिखा तो इसे नहीं छेड़ा जाएगा.

तैयारियां पूरी कर ली गई हैं, लेकिन अमेरिकी अधिकारियों उम्मीद है कि नए कोरियाई नेता किम जोंग उन अमेरिका और उसके सहयोगी देशों की तरफ मिसाइल दागने का जोखिम नहीं लेंगे. दक्षिण कोरिया के वित्त मंत्री ने उत्तर कोरिया से अपील की है कि वह काएसोंग औद्योगिक क्षेत्र में दक्षिण कोरियाई नागरिकों के जाने पर लगी पाबंदी को हटा ले. इस रोक को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए वित्त मंत्री ह्यून ओह सिओक ने पत्रकारों से कहा, "मुमकिन है कि उत्तर कोरिया यह सोच रहा है कि इससे उसका कोई नुकसान नहीं लेकिन मुझे लगता है कि इससे उसका कोई फायदा भी नहीं है."

एनआर/एमजे (एएफपी, एपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री

विज्ञापन