स्वीडन ने फिर खोला विकीलीक्स संस्थापक असांज का केस | दुनिया | DW | 13.05.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

स्वीडन ने फिर खोला विकीलीक्स संस्थापक असांज का केस

स्वीडन के अधिकारियों ने विकीलीक्स संस्थापक जूलियान असांज के खिलाफ बलात्कार के आरोपों वाला केस फिर खोल दिया है. असांज को ब्रिटेन में जमानत की शर्तों को तोड़ने के लिए 50 हफ्ते की कैद की सजा सुनाई गई है.

स्वीडन के सरकारी अभियोक्ता कार्यालय ने स्टॉकहोम में कहा है कि इक्वाडोर के दूतावास से गिरफ्तार विकीलीक्स संस्थापक के खिलाफ बलात्कार के आरोपों की जांच फिर से शुरू की जाएगी. जूलियान असांज पर 2010 में स्वीडन की दो महिलाओं ने बलात्कार और यौन शोषण का आरोप लगाया था. विकीलीक्स प्रमुख क्रिस्टीन ह्राफ्नसन ने कहा है, "यह विवादों से परे है कि मामले को फिर से शुरू करने की वजह स्वीडन पर राजनीतिक दबाव है."

जूलियान असांज ने बलात्कार के आरोपों से लगातार इंकार किया है, लेकिन अमेरिका को प्रत्यर्पित किए जाने के डर से वे स्वीडन की न्याय व्यवस्था से भागते रहे हैं. इंगलैंड में गिरफ्तारी से बचने के लिए उन्होंने भागकर इक्वाडोर के दूतावास में शरण ली थी, लेकिन मौजूदा सरकार ने उनको दी शरण वापस ले ली. इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और अदालत ने जमानत की शर्तें तोड़ने के लिए उन्हें सजा सुनाई.

विकीलीक्स प्रमुख क्रिस्टीन ह्राफ्नसन ने कहा है कि यदि असांज को स्वीडन प्रत्यर्पित किया जाता है तो यह उन्हें अपने को निर्दोष साबित करने का मौका देगा. असांज ने हमेशा कहा है कि वे आरोपों का जवाब देने को तैयार हैं यदि स्वीडन इस बात की गारंटी दे कि उन्हें वहां से अमेरिका को नहीं सौंपा जाएगा. अमेरिका असांज पर इराक और अफगानिस्तान में तैनाती से संबंधित गोपनीय सैन्य दस्तावेजों को प्रकाशित करने के कारण मुकदमा चलाना चाहता है.

अमेरिका असांज के प्रत्यर्पण की मांग कर रहा है. उसने जूलियान असांज पर व्हिसलब्लोवर चेल्सी मैनिंग के साथ अमेरिका के खिलाफ साजिश करने का आरोप लगाया है. 2010 में चेल्सी मैनिंग अमेरिकी सेना में ब्रैडली मैनिंग के नाम से काम कर रहा था और उसने विकीलीक्स को अमेरिकी सेना के लाखों दस्तावेज मुहैया कराए थे. असांज ने ब्रिटेन में स्वीडन प्रत्यर्पित किए जाने को रोकने की कानूनी कोशिशों के विफल होने के बाद 2012 में इक्वाडोर के दूतावास में शरण ली थी. स्वीडन में बलात्कार के आरोपों की जांच को 2017 में रोक दिया गया था.

इस बीच मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इक्वाडोर के अभियोक्ता कार्यलय ने लंदन को दूतावास में असांज के कमरे की जांच की स्वीकृति दे दी है. स्पेन के अखबार एल पाइस ने कहा है कि कमरे में जमा दस्तावेज, मोबाइल टेलिफोन, कंप्यूटर और डाटा स्टोरेज उपकरणों को अमेरिका को सौंप दिया जाएगा. मीडिया रिपोर्टों के अनुसार दूतावास में असांज के कमरे की 20 मई को तलाशी ली जाएगी. अभियोक्ता कार्यालय के फैसले से असांज के वकील कार्लोस पोवेदा को सूचित कर दिया गया है.

एमजे/आईबी (एएफपी, डीपीए)

इंटरनेट में एक मिनट में होता है इतना सब कुछ

DW.COM

विज्ञापन