सौ सालों की रिकॉर्ड बारिश से बदहाल चेन्नई | दुनिया | DW | 02.12.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

सौ सालों की रिकॉर्ड बारिश से बदहाल चेन्नई

चेन्नई में बारिश ने पिछले 100 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. तमिलनाडु में एक महीने से जारी बारिश के कहर में अब तक करीब 188 लोगों की मौत हो चुकी है. मदद के लिए सेना, नौसेना और आपदा राहत टीमें जुटी हैं.

भारी बरसात से शहर का यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है. चेन्नई एयरपोर्ट भी बुधवार दिन भर के लिए बंद कर दिया गया है. हवाई अड्डे पर करीब साढ़े चार सौ यात्री मौजूद हैं, जिन्हें मौसम खुलने का इंतजार है. एयरपोर्ट प्रमुख दीपक शास्‍त्री ने कहा कि जब तक एयरपोर्ट पर जल स्‍तर में कमी नहीं आएगी, विमान उड़ान नहीं भर पाएंगे. रेल ट्रैकों पर पानी भर जाने की वजह से करीब 13 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है. स्कूल कालेज भी बीते 16 दिनों से बंद चल रहे हैं.

मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक राज्य में लगातार बारिश होने की आशंका जताई है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को मदद का भरोसा दिलाया. मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में बाढ़ की स्थिति को लेकर जयललिताजी से बात की. इस दुर्भाग्यपूर्ण घड़ी में सभी संभावित मदद और सहयोग का आश्वासन दिया.''

मुख्यमंत्री जयललिता ने हालात का जायजा लिया और कहा कि पुलिस, अग्निशमन ओैर राष्ट्रीय राहत बल एनडीआरएफ, राज्य आपदा बल और तटीय गार्ड हालात पर काबू पाने के लिए प्रयासरत हैं. बारिश पीड़ितों की मदद के लिए हेल्पलाइनें खुली हैं. तमिलनाडु सरकार ने राज्य में 36 रिलीफ सेंटर बनाए हैं, जो हालात पर नजर बनाए हुए हैं. साथ ही सोशल माडिया की मदद से कई निजी समूह पीड़ितों की खाने पीने की जरूरतों और बचाव कार्यों में बढ़ चढ़ कर मदद कर रहे हैं.

संकट की स्थिति में रास्तों में फंसे अजनबियों के लिए कई लोगों ने अपने घरों के दरवाजे खोल दिए. राज्य के अस्पताल मरीजों से भरे हैं. सड़कों पर कई-कई मीटर पानी जमा है और लोगों को अस्पताल जाने में परेशानी हो रही है. घरों में पानी भर गया है और लोगों को बिजली की किल्लत की समस्या का सामना करना पड़ रहा है.

मौसम विभाग के पूर्व डिप्टी डायरेक्टर जनरल वाईईए राज ने दावा किया है कि इससे पहले नवंबर 1918 में शहर में सबसे ज्यादा 1088 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई थी.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन