सिब्बल ने आनंद से माफी मांगी | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 24.08.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

सिब्बल ने आनंद से माफी मांगी

मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने विश्व शतरंज चैंपियन विश्वनाथन आनंद से माफी मांगी और कहा, मंत्रालय ने उनकी नागरिकता पर सवाल नहीं उठाया. सिब्बल ने कहा, आनंद हैदराबाद यूनिवर्सिटी की मानद डॉक्टरेट लेने को तैयार.

default

मान गए आनंद

इससे पहले भारत में हैदराबाद की यूनिवर्सिटी ने कहा कि वह आनंद और हावर्ड यूनिवर्सिटी की जाने माने गणितज्ञ डेविड ममफोर्ड को मानद उपाधि देना चाहती है लेकिन मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने उसके प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी. मंत्रालय को उनकी नागरिकता पर संदेह रहा है. आनंद का संबंध तमिलनाडु से है लेकिन कुछ साल से वह स्पेन में रह रहे हैं. लेकिन अब भी उनके पास भारतीय पासपोर्ट ही है.

Der indische Wissenschaftsminister Kapil Sibal

सिब्बल ने मांगी माफी

मामले को तूल पकड़ता देख सिब्बल ने तुरत फुरत प्रेस कांफ्रेस बुलाई और कहा, "मैंने आनंद से कहा है कि उन्हें आज ही मानद उपाधि दी जा सकती है. उन्होंने संकेत दिया कि आज शाम उन्हें कुछ दूसरे काम हैं. फिर मैंने कहा कि अपनी सुविधा के अनुसार कोई तारीख तय कर लें. उन्होंने यह बात मान ली है." सिब्बल ने आनंद को फोन किया और पूरे मामले पर अफसोस जताया.

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के गणित विभाग के प्रमुख रजत टंडन कहते हैं, "हम विश्वनाथन आनंद को मानद डॉक्टरेट उपाधि देने को तैयार हैं. ऐसा करने से रोका या मना नहीं किया गया है. लेकिन इसमें देर हो रही है. मंत्रालय ने आनंद की नागरिकता पर सवाल उठाया है." टंडन ने कहा कि इस बारे में उनके प्रस्ताव का मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कोई जवाब नहीं दिया है. वह कहते हैं, "इस साल जुलाई में हमें पता चला कि मंत्रालय को आनंद की नागरिकता पर संदेह है. हमने इस बारे में बहुत से स्पष्टीकरण भेजे, लेकिन मंत्रालय की तरफ से मंजूरी नहीं मिली."

हैदराबाद यूनिवर्सिटी में गणित पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हो रहा है. इसी मौके पर यूनिवर्सिटी आनंद को सम्मानित करना चाहती थी. टंडन का कहना है कि वे मंगलवार को ही आनंद को उपाधि देना चाहते थे लेकिन विवाद की वजह से आनंद ने इनकार कर दिया.

इससे पहले यूनिवर्सिटी के एक उच्चाधिकारी ने कहा है कि मंत्रालय के रुख से उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि क्या करें. अधिकारी के मुताबिक, "इस मुद्दे पर मंत्रालय और यूनिवर्सिटी के बीच खूब चिट्ठी पतरी भेजी गई हैं. असल में आनंद की पत्नी ने उनके भारतीय पासपोर्ट की कॉफी भी फैक्स की है. लेकिन फिर भी मंत्रालय की तरफ से कोई जवाब नहीं आया."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links