सांपों के कंकाल ने खोले करोड़ों साल पुराने राज | विज्ञान | DW | 28.01.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

सांपों के कंकाल ने खोले करोड़ों साल पुराने राज

वैज्ञानिकों ने अब तक के सबसे पुराने सांप के जीवाश्म को पहचान लिया है. हाल ही में प्रकाशित एक रिसर्च रिपोर्ट में एक फॉसिल को हमारे अब तक के अनुमान से भी करोड़ों साल पुराना बताया गया.

सांपों की उम्र वैसे भी बहुत लंबी होती है. वैज्ञानिकों को मिले नए साक्ष्यों की मानें तो सांप के सबसे पहले सरीसृप पूर्वज अब तक पता समय से भी करीब 7 करोड़ साल पहले ही धरती पर आ गए थे. इसका पता सांप के चार ऐसे जीवाश्मों से चला है, जो अपर-क्रीटेशियस काल के बताए जा रहे हैं. 'नेचर कम्युनिकेशंस' नाम की पत्रिका में छपी एक रिपोर्ट में बताया गया है कि असल में सांप की प्रजाति अभी तक ज्ञात समय से काफी पहले से ही अस्तित्व में है. अंतरराष्ट्रीय रिसर्चरों की एक टीम ने मिल कर इन चार जीवाश्मों का अध्ययन किया और इन्हें 7 करोड़ साल के भी पुराना पाया.

आज से करीब 9 से 10 करोड़ साल पहले का समय अपर-क्रीटेशियस काल के रूप में जाना जाता था. रिसर्च में शामिल कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ एलबर्टा के प्रोफेसर माइकल कॉल्डवेल बताते हैं, "समूह 'सर्प' के भीतर हुई उद्विकास की प्रक्रिया उससे कहीं ज्यादा जटिल है, जितना हमने अब तक सोचा था."

संग्रहालय में रखे गए इन सांपों के जीवाश्मों में अब तक का सबसे पुराना सांप भी शामिल है. अब से करीब 14 से 16 करोड़ साल पहले यह धरती पर रहा होगा. इसके सिर के कंकाल के कई महत्वपूर्ण लक्षण आज भी सांपों में वैसे के वैसे ही पाए जाते हैं. इन करोड़ों सालों में सांपों की तमाम प्रजातियां विकसित हुईं लेकिन ये आधारभूत लक्षण कायम रहे.

ब्रिटेन के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम के विशेषज्ञ गार्थ अंडरवुड के नाम पर इस सबसे पुराने जीव का नाम 'इयोफिस अंडरवुडी' रखा गया. 1960 के दशक में अंडरवुड ने सांपों के बारे में कई महत्वपूर्ण अध्ययन प्रकाशित किए थे. इस सांप के कुछ जीवाश्मीय अवशेष ऑक्सफोर्डशर में मिले थे.

इयोफिस अंडरवुडी सांप मध्य जुरासिक काल में रहे होंगे. यह काल धरती के भौगोलिक लिहाज के भी काफी महत्वपूर्ण था. इसी समय पैंजिया सुपरकांटिनेंट टूट कर दो हिस्सों में बंटा था, जिन्हें गोंडवाना और लॉरेशिया के नाम से जाना जाता है. ई. अंडरवुडी और दूसरे तीन जीवाश्मों की स्टडी में सामने आया कि इस समय तक सरीसृप कुल में छिपकली जैसे जीवों से सांप जैसे जीव बन चुके थे.

ई. अंडरवुडी के हाथ पैरों जैसे अंग खत्म नहीं हुए थे, लेकिन उसकी खोपड़ी और दांत आज के सांपों जैसे हो चुके थे. इसके आगे विकास के क्रम में सांपों के हाथ पैर पूरी तरह चले गए. रिसर्चर अभी भी खोज जारी रखे हुए हैं कि शायद कभी इससे भी पुराने सांपों का पता चल जाए.

आरआर/एमजे(एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री