सलमान के फैन हैं इमरान | मनोरंजन | DW | 23.11.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

सलमान के फैन हैं इमरान

पारिवारिक पृष्ठभूमि के चलते फिल्मों में आए इमरान खान ने वर्ष 2008 में जाने तू या जाने ना से अपना करियर शुरू किया था. अब उन्होंने करीना कपूर के साथ फिल्म गोरी तेरे प्यार में काम किया है.

वह मानते हैं कि हर फिल्म ने अभिनेता के तौर पर उनको निखारने में अहम भूमिका निभाई है. इस फिल्म के प्रमोशन के लिए कोलकाता पहुंचे इमरान ने डॉयचे वेले के कुछ सवालों के जवाब दिए. पेश हैं उसके मुख्य अंशः

डॉयचे वेलेः करीना के साथ दूसरी फिल्म में काम करने का अनुभव कैसा रहा?

इमरान खानः हमने पहले एक मैं और एक तू में काम किया था. इसलिए इस फिल्म में काम करने के दौरान आपस में तालमेल बिठाने में कोई समस्या नहीं हुई. सच तो यह है कि काम करने में काफी मजा आया. वह एक मंझी हुई अभिनेत्री हैं.

डॉयचे वेलेः क्या आपने करीना की वजह से ही इस फिल्म में काम करने का फैसला किया?

इमरान खानः यह सही नहीं है. इस फिल्म के लिए पहले मुझे चुना गया था. करीना तो बाद में आईं. पुनीत पहले दो हीरो को लेकर यह फिल्म बनाना चाहते थे. उनमें से एक मैं था और दूसरे सैफ अली. लेकिन बाद में कहानी में बदलाव हुआ और एक ही हीरो रह गया.

डॉयचे वेलेः इस फिल्म की कहानी क्या है?

इमरान खानः यह एक ऐसे युवक की कहानी है जो एक युवती के प्यार में खुद को बदल देता है. उसे प्रभावित करने के लिए वह गांव में जाकर एक पुल तक बनाता है. यह एक हल्की-फुल्की प्रेम कहानी है जो दर्शकों के दिलों को छू लेगी.

डॉयचे वेलेः आपने लगातार कई रोमांटिक फिल्में की हैं. क्या इससे एक खास किस्म के इमेज में बंधने का खतरा नहीं है?

इमरान खानः मैं ऐसा नहीं सोचता. कोई भी रोल स्वीकार करने से पहले मैं खुद से सवाल करता हूं कि क्या मैं टिकट खरीद कर ऐसी फिल्म देखने जाऊंगा. अगर जवाब हां में मिलता है तो मैं वह फिल्म हाथ में लेने में देरी नहीं करता. मैं किसी भी किरदार को एक अभिनेता की निगाह से देखता हूं. हर किरदार की अपनी अलग खासियत होती है.

डॉयचे वेलेः वर्ष 2008 में फिल्मोद्योग में कदम रखने के बाद से एक अभिनेता के तौर पर आप में कितना बदलाव आया है ?

इमरान खानः एक अभिनेता के तौर पर मैं अपनी हर फिल्म से कुछ न कुछ सीखता रहा हूं. सुनने में अजीब लग सकता है लेकिन मटरू की बिजली का मंडोला जैसी फिल्म से भी मैंने काफी कुछ सीखा है. हर फिल्म मेरे अभिनय को निखारने में अहम भूमिका निभाती रही है.

डॉयचे वेलेः अपने समकालीन अभिनेताओं के साथ प्रतिद्वंद्विता को किस नजर से देखते हैं ?

इमरान खानः मैं प्रतिद्वंद्विता का मतलब नहीं समझ पाता. किसी दूसरे अभिनेता की कामयाबी या नाकामी से मुझे नुकसान या फायदा कैसे हो सकता है. बालीवुड में इतना काम है कि यहां सबके लिए पर्याप्त जगह है. दर्शक यह नहीं सोचते कि अब हमने अमुक हीरो की कामयाब फिल्म देख ली है तो दूसरे की फिल्में नहीं देखेंगे. वह बेहतर फिल्में देखते रहेंगे. मेरा काम ही मुझे कामयाब या नाकाम बना सकता है.

डॉयचे वेलेः आमिर खान के साथ आपके एक फिल्म करने की भी चर्चा है?

इमरान खानः आमिर के साथ कई बार इस मुद्दे पर चर्चा तो हुई है, लेकिन हमने कभी गंभीरता से इस पर काम नहीं किया है. फिलहाल हम दोनों व्यस्त हैं. भविष्य में कभी इसका मौका जरूर आएगा. हम कुछ खास मौकों पर ही मिल पाते हैं और उस समय काम के बारे में कोई बात नहीं होती.

डॉयचे वेलेः क्या आप अब भी खान तिकड़ी (आमिर, शाहरुख, सलमान) में से सलमान के ही फैन हैं?

इमरान खानः हां, मैं उनका जबरदस्त फैन हूं. इसलिए उनका नाम सुन कर ही फिल्म देखने चला जाता हूं. यह जानने की कोशिश तक नहीं करता कि उसकी कहानी क्या है.

इंटरव्यूः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links