समलकोट समझौते से खुश ओबामा | ताना बाना | DW | 22.01.2011
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

समलकोट समझौते से खुश ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अमेरिकी कंपनी जेनरल इलैक्ट्रिक जीई भारत में समलकोट पावर प्लांट के लिए टरबाइनों का उत्पादन करेगा. इससे 1,600 नौकरियां पैदा होंगी.

default

भारत दौरे पर ओबामा

ओबामा ने शुक्रवार को न्यू यॉर्क के पास शेनेक्टेडी में जीई फैक्र्टरी का दौरा किया. उन्होंने कहा कि टर्बाइनों का समझौता पिछले साल नवंबर में भारत के साथ समझौते का सीधा सीधा नतीजा है. उन्होंने कहा, "मेरे आने का एक कारण यह भी था कि मेरी भारत यात्रा में इसी प्लांट की बात चली थी." पिछले साल ओबामा नवंबर में भारत आए थे. अमेरिका और भारत के बीच व्यापार समझौते के मुताबिक अमेरिका करीब 500 अरब रुपयों की कीमत का सामान भारत को निर्यात करेगा. इससे अमेरिका में 50,000 नौकरियां पैदा की जा सकेंगी.

ओबामा ने कहा, "भारत के साथ समझौते के मुताबिक जीई भारत

NO FLASH Obama in Indien

के समलकोट में पावर प्लांट के लिए उन्नत टर्बाइनों का उत्पादन करेगा." उन्होंने जीई में आए लोगों से कहा कि उनमें से बहुत लोगों ने समलकोट का नाम तो नहीं सुना होगा, लेकिन अब इस जगह के बारे में जानने की जरूरत है क्योंकि यह सामान समलकोट को बेचे जाएंगे.

उन्होंने कहा, "दुनिया के दूसरे हिस्से में यह नया कारोबार यहां (अमेरिका में) उत्पादन में 1,200 नौकरियां और इंजीनियरिंग में 400 नौकरियां पैदा करेगा."

ओबामा के मुताबिक इसी वजह से निर्यात को बढ़ावा देना जरूरी है. ओबामा ने वादा किया है कि वह अगले पांच सालों में अमेरिका के निर्यात को दुगुना करेंगे. और देश अभी से इस रास्ते पर चल रहा है. उन्होंने कहा कि निर्यात अभी से 18 प्रतिशत बढ़े हैं और वे आगे बढ़ते रहेंगे क्योंकि दुनिया भर में अमेरिका और चीजें बेचने की कोशिश करेगा.

ओबामा का साफ साफ कहना है कि जब एक कंपनी देश के बाहर सामान बेचती है तो इससे अमेरिका में नौकरियां पैदा होती हैं. "समलकोट में समझौते का मतलब है शेनेक्टेडी में नौकरियां. इससे विकास को बढ़ावा मिलता है और हम अपने नागरिकों के लिए मौके पैदा करते हैं." ओबामा ने कहा कि पिछले दस सालों से बाकी देश अमेरिका को ज्यादा बेच रहे थे जिसे अब बदलना होगा. समलकोट भारत के आंध्र प्रदेश में है. रिलायंस पावर के साथ समझौते के तहत जीई समलकोट पावर प्लांट को टर्बाइन बनाकर दे रहा है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एमजी

संपादनः एन रंजन

DW.COM