समय के साथ बदलता काम का स्वरूप | वीडियो और तस्वीरें | DW | 31.10.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

समय के साथ बदलता काम का स्वरूप

मध्य युग तक काम करने को अच्छा नहीं माना जाता था. उसके बाद चर्च में सुधारों के जनक मार्टिन लुथर आए और उन्होंने काम को ईश्वरीय कर्तव्य बना दिया. अब 500 साल बाद रोबोट हमसे काम छीनने की तैयारी कर रहे हैं.

और पढ़ें