संयुक्त राष्ट्र की संस्था ने अरुणाचल को अलग देश बताया | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 08.10.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

संयुक्त राष्ट्र की संस्था ने अरुणाचल को अलग देश बताया

संयुक्त राष्ट्र की खाद्य और कृषि संस्था (एफएओ) ने भारत के जम्मू और कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को अलग देश के रूप में दिखाया है. अब संस्था इस बात पर अड़ भी गई है.

default

अरुणाचल के इलाके पर विवाद

एफएओ का कहना है कि दुनिया के विवादित क्षेत्रों को लेकर उसकी यही राय है. अपनी एक रिपोर्ट में संस्था ने जम्मू कश्मीर और अरुणाचल को भारत से लगते अलग देश बताया है. यह रिपोर्ट डेयरी सेक्टर से होने वाले ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन के बारे में है. इस रिपोर्ट की पांचवीं सूची में दोनों राज्यों का नाम शामिल किया गया है.

संस्था का यह कदम हैरतअंगेज है क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में जम्मू और कश्मीर को ही भारत-पाकिस्तान के बीच विवादित क्षेत्र माना जाता है. अरुणाचल प्रदेश के भारत का हिस्सा होने को लेकर अब तक किसी तरह का विवाद नहीं था.

जब इस बारे में एफएओ के भारत में प्रतिनिधि गैविन वॉल से संपर्क किया गया तो उन्होंने रिपोर्ट को सही ठहराया. उन्होंने कहा, "इस सूची में सब देशों का नाम ग्लोबल एडमिनिस्ट्रेटिव यूनिट लेयर्स के आधार पर डाला गया है. यही हमारे लिए देशों की सीमाएं तय करने का काम करती है." उन्होंने कहा कि संस्था विवादित हिस्सों के बारे में यही राय रखती है.

इस रिपोर्ट में अरुणाचल प्रदेश को अंग्रेजी में अरुणाशल प्रदेश लिखा गया गया है. इसी सूची में अक्साई चीन को भी अलग देश बताया गया है. अक्साई चीन पर चीन अपना कब्जा जताता है जबकि भारत इसे अपना हिस्सा कहता है.

रिपोर्टः पीटीआई/वी कुमार

संपादनः निर्मल

WWW-Links

विज्ञापन