श्रद्धाजंलि के साथ भारत की हुंकार | दुनिया | DW | 29.12.2012
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

श्रद्धाजंलि के साथ भारत की हुंकार

23 साल की छात्रा से बलात्कार करने के आरोपियों पर दिल्ली पुलिस ने हत्या की धारा भी लगा दी है. पुलिस दोषियों के लिए कड़ी सजा की मांग करेगी. नेता भी यही कर रहे हैं लेकिन लोग वादों से ज्यादा ठोस कदमों की इंतजार कर रहे हैं.

छात्रा की मौत के बाद दिल्ली के जंतर मंतर पर धीरे धीरे लोग जमा होने लगे. दोपहर होते होते लोगों का सैलाब उमड़ने लगा. पुलिस ने कई अहम सड़कों को बंद कर दिया. मेट्रो के 10 स्टेशन बंद कर दिए गए. लेकिन इसके बावजूद लोग कई किलोमीटर पैदल चलकर जंतर मंतर तक पहुंचे. शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे लोगों में बड़ी संख्या में युवा और उम्रदराज लोग भी हैं.

दोपहर बाद दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित जंतर मंतर पहुंचीं. उन्हें वहां लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा. प्रदर्शनकारियों ने 'वापस जाओ.. वापस जाओ' के नारे लगाकर शीला दीक्षित को वापस लौटने पर मजबूर कर दिया.

हत्या की धारा

लोगों के गुस्से को कम करने के लिए दिल्ली पुलिस ने भी बयान जारी किया और कहा कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी. ऐसे संकेत दिए हैं कि वह दोषियों के लिए फांसी की सजा की मांग करेगी. दिल्ली पुलिस सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है.

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार ने कहा कि आरोपियों पर हत्या की धारा भी लगा दी गई है. पुलिस हफ्ते भर में अदालत में आरोपपत्र दायर करने की बात कह रही है. पुलिस के मुताबिक वह कोर्ट से मामले को रेयरेस्ट ऑफ रेयर यानी दुर्लभतम से दुर्लभ की श्रेणी में रखने को अपील करेगी. गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक आरोपियों के खिलाफ पुलिस पर्याप्त सबूत जुटा चुकी है.

नेताओं की अपील

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सभी राजनीतिक दलों और नागरिक संगठनों से अपील की है कि वे साथ आएं. शनिवार को मनमोहन ने कहा, "समय की मांग है कि सामाजिक व्यवहार में आ रहे अहम बदलाव की जांच की जाए और निष्पक्ष बहस की जाए. मैं उम्मीद करता हूं कि पूरा राजनीतिक वर्ग और सामाजिक समुदाय अपने संकीर्ण हितों और एजेंडे को किनारे कर साथ आएगा ताकि हम भारत को ऐसा देश बना सकें जिसकी हमने कल्पना की. साफ तौर पर महिलाओं के लिए बेहतर और सुरक्षित दिखाई पड़ने वाला भारत."

जनता के आक्रोश को शांत करने की कोशिश कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी की. सोनिया ने अंग्रेजी और हिंदी में बयान दिए. उन्होंने कहा, "एक महिला और एक मां होने के नाते में दर्द को समझ सकती हूं. उसकी लड़ाई व्यर्थ नहीं जाएगी. यह शर्म की बात है कि हमारी बेटियां, बहनें और माताएं असुरक्षित हैं."

राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा, "हमने अपने भीतर देखना होगा कि हम कैसे कानून, अपनी न्यायिक कार्रवाई और सबसे जरूरी एक ऐसी नागरिक चेतना बना सकें जिसमें महिलाएं सम्मान के साथ बेहतर माहौल में रहें."

लोगों में अविश्वास

लेकिन जिस तादाद में लोग जंतर मंतर पर जमा हुए, उससे लगता है कि जनता नेताओं के आश्वासनों पर भरोसा नहीं कर पा रही है. जंतर मंतर पर पहुंची 35 साल की अंजलि रावल कहती हैं, "बलात्कार लड़की लिए एक एक आघात है, यह कोई नई बात नहीं हैं, काफी पहले से होती आ रही है. लेकिन इस मामले ने प्रेशर कुकर के धमाके की तरह काम किया है. बहुत हुआ, हमें जागना होगा और महिलाओं की सुरक्षा के लिए लड़ना होगा.

प्रदर्शन में हिस्सा ले रही वकील बेला राणा कहती हैं, "हां, हम जानते हैं कि यह कोई पहला मामला नहीं है, भारत में सामूहिक बलात्कार का यह आखिरी मामला भी नहीं होगा, लेकिन यह साफ है कि हम यौन अपराधों को अब और बर्दाश्त नहीं करेंगे."

Indien - Proteste nach der Vergewaltigung einer Studentin.

कोलकाता में प्रदर्शन

चेहरे पर गंभीर भाव लिए जंतर मंतर पहुंचे कॉलेज प्रोफेसर आकार कामथ के मुताबिक, "हां, युवती की मौत हो चुकी है लेकिन उसकी कहानी हमेशा याद रहेगी, कई भारतीय अब महिलाओं के प्रति नफरत के भाव से लड़ने को तैयार हो चुके हैं."

इस घटना ने पूरे भारत को झकझोर दिया है. 16 दिसंबर की रात 23 साल की छात्रा अपने मित्र के साथ दिल्ली के जिस बस स्टॉप से बस पर सवार हुई थी, वहां अब एक मेमोरियल बना दिया गया है. शनिवार को छात्रा की मौत की खबर के बाद जेएनयू के छात्र मुनीरका के उस बस स्टैंड पर पहुंचे और उसे फूलों व श्रद्धाजंलि स्लोगनों से भर दिया.

अहमदाबाद, मुंबई और कोलकाता समेत देश के कई अन्य शहरों में भी श्रद्धाजंलि सभाएं आयोजित की गईं. दिल्ली में कड़ाके की ठंड के बावजूद देर शाम तक बड़ी संख्या में लोग जंतर मंतर पर डटे रहे. अंधेरा होने के बाद वहां मोमबत्ती जलाकर मार्च निकाला गया.

ओएसजे/एजेए (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री

विज्ञापन