शिव सेना सांसद के लिये अब आसान नहीं होगा उड़ान भरना | दुनिया | DW | 24.03.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शिव सेना सांसद के लिये अब आसान नहीं होगा उड़ान भरना

शिव सेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने माना है कि उन्होंने एयर इंडिया के एक 60 वर्षीय कर्मचारी को चप्पलों से पीटा. अब फेडेरेशन ऑफ इंडियन एयरलाइंस (एफआईए) ने मारपीट के आरोपी शिवसेना सांसद के उड़ान भरने पर बैन लगा दिया है.

गायकवाड़ ने खुले तौर पर माना है कि उन्होंने एयर इंडिया कर्मचारी को 25 बार चप्पल से मारा. इसके बाद उन पर यह प्रतिबंध लगाया गया है. इसके तहत अब वह एफआईए से जुड़ी किसी भी एयरलाइंस के विमानों में सफर नहीं कर सकते हैं. एफआईए में जेट एयरवेज, इंडिगो, स्पाइस जेट और गो एयर शामिल हैं. एयर इंडिया के प्रवक्ता मुताबिक गायकवाड़ ने एयर इंडिया की बिजनेस क्लास में ओपन टिकट बुक किया था लेकिन उन्हें यात्रा इकॉनमी क्लास में करनी पड़ी इसलिये ये सारा विवाद शुरू हुआ. एयरलाइन ने शिव सेना सांसद के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. वहीं शिव सेना ने भी इस मामले में अपने सांसद से सफाई मांगी है. हालांकि गायकवाड़ अपने व्यवहार पर जरा भी शर्मिंदा नहीं हैं और माफी मांगने की बजाय उन्होंने एयर इंडिया को चुनौती देते हुये कहा कि वह इसी फ्लाइट से वापस भी जायेंगे.

पुलिस ने बताया कि घायल कर्मचारी को मेडिकल परीक्षण के लिये भेज दिया गया है और मेडिकल रिपोर्ट के बाद ही मामला दर्ज किया जायेगा. पुलिस ने बताया कि एयरलाइंस ने गायकवाड़ पर साफ-सफाई के लिये विमान से न उतरने को लेकर भी शिकायत दर्ज कराई है.

नागर विमान मंत्री अशोक गजपति राजू ने घटना की निंदा करते हुये कहा कि ऐसे हमलों को प्रोत्साहित नहीं किया जायेगा.

एयरलाइन के मुताबिक गायकवाड़ ने एयर इंडिया में बिजनेस क्लास में ओपन टिकट बुक किया था. नियमों के मुताबिक ओपन टिकटधारी यात्री किसी भी दिन उड़ान भर सकते हैं. गायकवाड़ ने इस ओपन टिकट का इस्तेमाल करते हुए गुरुवार सुबह पुणे से सात बजकर 35 मिनट पर दिल्ली के लिए रवाना होने वाली एआई 852 उड़ान ली. लेकिन इस विमान में सभी सीटें इकॉनमी क्लास की थीं. विमान जब इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचा तो उन्होंने विमान से उतरने से मना कर दिया और कर्मचारी पर बरस पड़े. 

इस मुद्दे पर सोशल मीडिया में गायकवाड़ की खूब खिंचाई हो रही है. 

एए/एके (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन