शाहिद खाकान अब्बासी पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री | दुनिया | DW | 01.08.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शाहिद खाकान अब्बासी पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री

शाहिद खाकान अब्बासी पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री चुन लिये गये हैं. नेशनल असेंबली में भारी समर्थन पाने वाले अब्बासी देश के अंतरिम प्रधानमंत्री होंगे.

 

पाकिस्तानी संसद में 341 सदस्यों वाले निचले सदन नेशनल असेंबली में पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज (पीएमएल-एन) के नेता अब्बासी को 221 वोट मिले. वहीं, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेता नवीद कमर को मात्र 47 और तहरीक ए इंसाफ की तरफ से उम्मीदवार शेख रशीद अहमद को सिर्फ 33 वोटों से संतोष करना पड़ा.

नतीजों का एलान करने के बाद असेंबली के स्पीकर अयाज सादिक ने अब्बासी से प्रधानमंत्री की कुर्सी ग्रहण करने और सदन को संबोधित करने को कहा. पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन अब शाहिद खाकान अब्बासी को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलवाएंगे.

Pakistan Islamabad - Shahid Khaqan Abbasi (Getty Images/AFP/A. Qureshi)

अमेरिका में इलेक्ट्रिक इंजीनियर के छात्र रह चुके हैं अब्बासी

इससे पहले 25 जुलाई 2017 को पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को पद के लिए अयोग्य करार दे दिया. पनामा लीक्स के मामले में फंसे नवाज शरीफ के खिलाफ फैसला सुनाते हुए सर्वोच्च अदालत ने कहा कि, "वह असेंबली के एक ईमानदार सदस्य नहीं रहे हैं और इसलिए वह प्रधानमंत्री पद पर नहीं रह सकते." कोर्ट के फैसले के बाद नवाज शरीफ को प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा. इसके बाद कामचलाऊ इतंजाम करते हुए पीएमएल-एन ने 58 साल के अब्बासी को दावेदार बनाया.

लेकिन अब्बासी का कार्यकाल ज्यादा नहीं लंबा नहीं होगा. पार्टी चाहती है कि प्रधानमंत्री पद नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ संभालें. लेकिन शहबाज शरीफ फिलहाल नेशनल असेंबली के सदस्य नहीं हैं. उनके चुनाव जीतकर नेशनल असेंबली आने तक अब्बासी पद संभालेंगे.

27 दिसंबर 1958 को कराची में पैदा हुए अब्बासी जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके हैं. कई साल अमेरिका में काम करने के बाद वह सऊदी अरब पहुंचे और तेल और गैस उद्योग से जुड़ गये. अपने पिता खाकान अब्बासी की मृत्यु के बाद शाहिद खाकान अब्बासी राजनीति में आए. 1998 में पहली बार निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जीतने वाले शाहिद खाकान अब्बासी 1990 में भी दूसरा चुनाव जीते. तीसरी चुनावी पारी में वह पीएमएल-एन के साथ जुड़े.

(पाकिस्तान में प्रधानमंत्री 5 साल नहीं रहते ​​​​)

ओएसजे/एके (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन