शंघाई सहयोग संगठन में चीनी राष्ट्रपति से मिले मोदी | दुनिया | DW | 13.06.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

शंघाई सहयोग संगठन में चीनी राष्ट्रपति से मिले मोदी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आठ देशों के शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए दो दिन की यात्रा पर बिश्केक में हैं. इस दौरान उनका चीन और रूस के राष्ट्रपति से मिलने का कार्यक्रम है.

मध्य एशिया के देश किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में अपनी दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शी के साथ बैठक उनके आगमन के बाद पहला आधिकारिक कार्यक्रम होगा. इसे बहुत महत्व के साथ देखा जा रहा है, और माना जा रहा है कि यह मोदी के दूसरे कार्यकाल में पदभार संभालने के बाद से यह उनकी पहली अनौपचारिक बातचीत होगी.

उम्मीद है कि इस वार्ता से दोनों के बीच अनुकूल माहौल तैयार होगा. चीन के राष्ट्रपति इस साल के अंत में भारत के दौरे पर होंगे. गुरुवार शाम उनकी वार्ता के दौरान द्विपक्षीय और अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में व्यापार प्रमुख मुद्दा रहेगा. 23 मई को मोदी के फिर से प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद शी दुनिया के पहले नेता थे जिन्होंने मोदी को बधाई दी थी. मोदी को भेजे गए एक पत्र में चीन के राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने (मोदी ने) भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है.

शी से मुलाकात के बाद मोदी रूसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ वार्ता करेंगे. मोदी की दूसरे कार्यकाल के दौरान दोनों नेताओं से यह पहली मुलाकात होगी. रूस के राष्ट्रपति ने भी मोदी को फिर से चुने जाने पर बधाई संदेश भेजा था और दोनों देशों के बीच 'विशेष रणनीतिक साझेदारी' को व्यापक विकास के लिए तत्परता जाहिर की थी. इसके अलावा किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सोरोनबे जीनबेकोव की मेजबानी में मोदी एक अनौपचारिक रात्रिभोज में हिस्सा लेंगे. इसके बाद वह अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ एक द्विपक्षीय वार्ता में भाग लेने वाले हैं.

--आईएएनएस

______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay |

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन