शंघाई में अव्वल अलोंसो | खेल | DW | 15.04.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

शंघाई में अव्वल अलोंसो

फॉर्मूला वन की रेड बुल टीम में कुछ गहरा विवाद चल रहा है. मलेशियन ग्रां प्री के झगड़े के बाद अब चीन में अलोंसो की जीत और रेस में अपने प्रदर्शन से ज्यादा टीम एक गाड़ी के खराब होने पर सफाई देती रही.

रविवार को शंघाई में चाइनीज ग्रां प्री फरारी के फर्नांडो अलोंसो ने जीती. जुलाई 2012 के बाद अलोंसो की यह पहली जीत है. आलोंसो की शुरुआत से ही अंदाजा हो गया कि अगर उन्होंने कोई गलती नहीं की तो जीत उन्हीं की होगी. यही हुआ भी, स्पैनिश ड्राइवर ने खूबसूरती से गाड़ी चलाई.

हालांकि रेस शुरू होने से पहले ही अलोंसो समेत कई ड्राइवरों की राह की एक बड़ी बाधा दूर हो चुकी थी. रविवार को अभ्यास के दौरान वेबर की गाड़ी में आयोजकों को शिकायतें मिली. इस वजह से रेड बुल के ड्राइवर मार्क वेबर को रेस से बाहर कर दिया गया. मलेशियन ग्रां प्री में दूसरे स्थान पर आने वाले वेबर को सजा के तौर पर मुख्य रेस में हिस्सा नहीं लेने दिया गया.

शनिवार की अभ्यास रेस के दौरान भी गाड़ी का तेल खत्म होने की वजह से वेबर मुकाबला पूरा न कर सके. रविवार को मुख्य रेस से पहले क्लालिफाईंग में उनकी गाड़ी का एक पहिया ही निकल गया. दो दिन में हुई लगातार दो गलतियों के बाद वेबर को रेस से बाहर कर दिया गया.

इससे पहले मलेशियन ग्रां प्री में रेड बुल के दोनों ड्राइवरों सेबास्टियान फेटल और मार्क वेबर का झगड़ा हुआ. टीम के मना करने के बावजूद जर्मन चालक फेटल ने वेबर को खतरनाक ढंग से ओवरटेक कर रेस जीती. विवाद के बाद अटकलें लगाई जा रही हैं कि वेबर और फेटल के मतभेद टीम पर भारी पड़ रहे हैं.

ऐसी खबरों के बीच गाड़ी का तेल खत्म होना और अगले ही दिन टायर का निकला, मीडिया का एक धड़ा इसे शक की निगाह से देख रहा है. हालांकि रेड बुल टीम के मुखिया क्रिस्टियान होर्नर ने वेबर के खिलाफ किसी तरह की साजिश रचे जाने का खंडन किया है. शंघाई की रेस के बाद होर्नर ने कहा, "यह सब बकवास है. साजिश की बात भूल जाइए. हम दोनों कारों को अच्छी से अच्छी स्थिति में रेस खत्म करते हुए देखना चाहते हैं."

होर्नर ने वेबर और फेटल से इशारों इशारों में कहा, "अगर किसी को यह लगता है कि उसके या दूसरे के खिलाफ साजिश की गई है तो इसका मतलब है कि ड्राइवरों को पता ही नहीं है कि वे किस दिशा में देख रहे हैं. मार्क को पता है कि वाकई में क्या हुआ. इसमें कोई साजिश नहीं है."

वैसे इस साल फॉर्मूला वन की अभी 16 रेसें और होनी हैं. अगली रेस 21 अप्रैल को बहरीन में होगी. इन रेसों में दिख जाएगा कि 2010, 2011 और 2012 की चैंपियन टीम रेड बुल के भीतर सब कुछ ठीक ठाक है या नहीं.

ओएसजे/एनआर (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

विज्ञापन