वेनिस में प्रवेश के लिए देनी होगी फीस | दुनिया | DW | 28.02.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

वेनिस में प्रवेश के लिए देनी होगी फीस

मई 2019 से इटली के प्राचीन लैगून शहर वेनिस जाने वाले लोगों को प्रवेश शुल्क देना होगा, जो कि 2020 में दोगुना हो जाएगा. इस राशि का इस्तेमाल प्राचीन द्वीप को साफ रखने में होगा.

हर साल उत्तरी इटली के मशहूर शहर वेनिस में करीब 2.5 करोड़ आगंतुक आते हैं. इनमें से लगभग 1.4 करोड़ केवल एक दिन के लिए आते हैं और अक्सर अपने साथ पिकनिक का सामान भी लाते हैं. जाहिर है कि ऐसे लोगों ने स्थानीय रेस्त्रां और बार को कोई फायदा नहीं होता.

दूसरी ओर, हर साल आने वाले ऐसे आगंतुकों के जाने के बाद सफाई की लागत बढ़ जाती है. वेनिस सिटी काउंसिल ने आगंतुकों के प्रवेश पर प्रवेश शुल्क लगाने का फैसला किया है. इस साल मई से एक व्यक्ति को प्रवेश के लिए 3 यूरो का शुल्क देना होगा. सन 2020 में इसे दोगुना कर 6 यूरो कर दिया जाएगा. यह भी योजना है कि 2020 से यह शुल्क भीड़भाड़ के हिसाब से कम या ज्यादा होगी. यह परिवर्तनशील शुल्क 3 यूरो से लेकर 10 यूरो के बीच कुछ भी हो सकता है.

वेनिस के मेयर लुइगी ब्रुगनारो ने परिषद के फैसले के बाद कहा, "यह दुनिया में अद्वितीय है. पहली बार किसी ने शहर को संभालने में मदद करने के लिए कुछ ऐसा करने की हिम्मत की है."

किसे मिलेगी छूट

फिलहाल योजना है कि ये शुल्क परिवहन कंपनियां इकट्ठा करेंगी जो बस या रेल से आगंतुकों को लाती हैं. लेकिन 20 से अधिक तरह की छूट का भी प्रावधान किया गया है. इनमें शामिल हैं-

-होटल के मेहमान, क्योंकि वे पहले से ही टैक्स दे चुके होते हैं,

-6 वर्ष से कम आयु के बच्चे,

-वेनिस में जन्मे, रहने वाले, काम करने वाले या पढ़ाई करने वाले लोग और उनके आने वाले रिश्तेदार.

भारी जुर्माना

इसके अलावा पहले साल को नए शुल्क के लिए प्रायोगिक वर्ष माना जाएगा. इसका भुगतान ना करने वालों पर 450 यूरो का जुर्माना लग सकता है. वेनिस जिस वेनेटो राज्य की राजधानी है, उसके गवर्नर लुका जिया ने कहा, "वेनिस को सम्मान की जरूरत है और म्यूजियम, स्पोर्ट्स स्टेडियम, सिनेमा, ट्रेन और हवाई जहाज के मामले में, देखने की जरूरत है की लोगों के आने जाने को कैसे अच्छी तरह से प्लान किया जाए. हम चाहते हैं कि ये शहर यहां रहने वालों और आने जाने वालों दोनों को संभालने लायक बना रहे."

एनआर/आरपी (रॉयटर्स, एपी)

DW.COM

विज्ञापन