विशाल डायनासोर परिवार के सबसे बुजुर्ग जीव का जीवाश्म | विज्ञान | DW | 02.03.2021
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

विशाल डायनासोर परिवार के सबसे बुजुर्ग जीव का जीवाश्म

वैज्ञानिकों को अर्जेंटीना के पैटागोनियन जंगल में मिले जीवाश्म शाकाहारी डायनासोर की सबसे पुरानी प्रजाति के हो सकते हैं. ये जीवाश्म टाइटेनोसोर के हैं. ये शाकाहारी डायनासोर धरती के सबसे बड़े जीव माने जाते हैं.

वैज्ञानिकों ने रविवार को बताया कि अर्जेंटीना में खुदाई के दौरान मिला विशाल डायनासोर अब तक का सबसे पुराना टाइटेनोसोर हो सकता है. यह जीव 14 करोड़ साल पहले यानी क्रेटेशियस काल की शुरुआत में धरती पर पाए जाते थे. जिस जगह यह जीवाश्म मिले हैं वह आज पैटेगोनिया के नाम से जाना जाता है. 

टाइटेनोसोर डायनासोर के साउरोपॉड समूह के सदस्य हैं. टाइटेनोसोर समूह में जमीन पर रहने वाले सबसे बड़े जीवों का पता मिलता है जो आज के आज की व्हेल के आकार के भी हो सकते हैं.  

अर्जेंटीना के ला मटान्जा विश्वविद्यालय ने अपने विश्लेषण में बताया कि 65-फीट यानी करीब 20-मीटर लंबे निंजाटइटन जापताई नाम की इस विशाल छिपकली की खोज 2014 में दक्षिण-पश्चिम अर्जेंटीना के नुएक्वेन प्रांत में की गई थी. इस जीव का नाम अल निंजा के नाम से पुकारे जाने वाले अर्जेंटीना के जीवाश्म विज्ञानी सेबेस्टियन अपस्टेगिया और तकनीशियन रोगेलियो जैपाटा के नाम पर रखा है.

निंजाटइटन नाम दो शब्दों से बना है निंजा और टाइटन. निंजा शब्द जापान से आता है और टाइटन का मतलब होता है विशालकाय.

कॉनसेट विज्ञान परिषद के रिसर्चर पाब्लो गैलिना ने एक बयान में कहा कि, "इस जीवाश्म का महत्व टाइटेनोसोर की एक नई प्रजाति होने के अलावा यह भी है कि यह इस समूह के लिए दुनिया के सबसे पुराने जीव में दर्ज है."

टाइटेनोसोर लंबी गर्दन और पूंछ वाले विशाल शाकाहारी छिपकली थे जो शायद पृथ्वी पर चलने वाले सबसे बड़े जानवर थे.

नई खोज के अनुसार टाइटेनोसोर पहले जितना सोचा गया था उससे अधिक समय से धरती पर रह रहे थे. क्रेटेशियस युग लगभग 6.6 करोड़ साल पहले डायनासोर के विलुप्त होने के साथ खत्म हो गया था.

रिसर्चर गैलिना जो अर्जेंटीना की विज्ञान पत्रिका अमेघियाना में प्रकाशित रिसर्च रिपोर्ट की मुख्य लेखिका हैं, उन्होंने कहा कि 14 करोड़ साल पहले के जीवाश्म "वास्तव में बहुत दुर्लभ हैं."

एसएस/एनआर(रॉयटर्स)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री