विवाद में पड़ा ओला का विज्ञापन | दुनिया | DW | 26.04.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विवाद में पड़ा ओला का विज्ञापन

ओला कैब्स को भारत के कई शहरों में सस्ती टैक्सी सेवा देने के लिए जाना जाता है. लेकिन अपने ताजा विज्ञापन में कंपनी ने सस्तेपन को कुछ ऐसे दर्शाया कि महिलाओं को यह कतई पसंद नहीं आया. देखिए वीडियो.

तीस सेकंड के इस विज्ञापन में एक लड़के को अपनी गर्लफ्रेंड का खर्च उठाते हुए दिखाया गया है. लड़का कैमरे की ओर देख कर कहता है, "मेरी गर्लफ्रेंड चलती है 525 रुपये पर किलोमीटर से पर ओला माइक्रो चलती है सिर्फ छह रुपये प्रति किलोमीटर से." विज्ञापन से ट्विटर पर हंगामा हो गया. कई महिला संगठनों ने इसकी निंदा की और इसे सेक्सिट बताया, यह सवाल उठाया कि विज्ञापन बनाने वाले महिलाओं के प्रति किस तरह की सोच रखते हैं.

हालांकि बहुत से लोग ऐसे भी हैं जिनका मानना है कि विज्ञापन में एक छोटा सा मजाक किया गया है और उसे मजाक के रूप में ही लेना चाहिए. बहरहाल मामला इतना बढ़ा कि ओला को विज्ञापन वापस लेना पड़ा. ट्विटर पर कंपनी ने थोड़ी चुटकी लेते हुए लिखा, "हम समझते हैं कि हमारे एक विज्ञापन से कुछ लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं. हमने यह विज्ञापन वापस ले लिया है. लेकिन ओला माइक्रो अब भी छह रुपये प्रति किलोमीटर से ही चल रही है."

ऐसा पहली बार नहीं है जब ओला ने इस तरह का विज्ञापन बनाया है. दरअसल यह ओला के विज्ञापनों की एक श्रृंखला का हिस्सा है. कुछ समय पहले एक विज्ञापन आया था जिसमें पिता को अपने बच्चे का खर्च उठाते दिखाया गया था. लेकिन उस पर कोई बवाल नहीं हुआ था.

आप भी देखें नए पुराने दोनों विज्ञापन और बताएं हमें कि आप इनके बारे में क्या सोचते हैं. क्या कंपनी को महिलाओं से औपचारिक रूप से माफी मांगनी चाहिए या फिर हल्का फुल्का मस्ती मजाक समझ कर इसे नजरअंदाज कर देना ही ठीक है? नीचे दी गयी जगह में आप अपनी राय हमसे साझा कर सकते हैं.

DW.COM