वियतनाम में पर्यावरण एक्टिविस्ट को सात साल की कैद | दुनिया | DW | 27.11.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

वियतनाम में पर्यावरण एक्टिविस्ट को सात साल की कैद

वियतनाम में एक पर्यावरण कार्यकर्ता को सात साल की कैद की सजा सुनाई गई है. उसका अपराध ये था कि उसने 2016 में एक रासायनिक दुर्घटना के बाद हुई क्षति की तस्वीरें ऑनलाइन शेयर की थीं.

22 साल के न्गुयेन फान होआ को "वियतनाम समाजवादी गणतंत्र के खिलाफ प्रचार अभियान" चलाने के आरोप में हा थिंह प्रांत की एक अदालत ने सजा सुनाई. वेबसाइट वीएनएक्सप्रेस के अनुसार पर्यावरण एक्टिविस्ट को अप्रैल 2016 में दुर्घटना में बड़े पैमाने पर मछलियों के मरने की सूचना, तस्वीरें और वीडियो शेयर करने की सजा दी गयी. होआ पर अपने फेसबुक अकाउंट के जरिये अधिकारियों के खिलाफ विरोध भड़काने का आरोप लगाया गया.

अधिकारियों का कहना था कि दुर्घटना जिसमें हजारों टन मछलियों की मौत हो गयी थी, स्थानीय मछलीपालन उद्योग चौपट हो गया था. हादसा फॉरमोसा हा थिंह स्टील फैक्टरी में एक लीक के कारण हुआ था. ताइवान की कंपनी फॉरमोसा पर वियतनाम के केंद्रीय तट में कचरा फेंकने के लिए 50 करोड़ डॉलर का जुर्माना किया गया. यह प्लांट बड़े उद्यमों द्वारा पर्यावरण को पहुंचाये वाले नुकसान के कारण पर्यावरण कार्यकर्ताओं के गुस्से के केंद्र में था.

लेकिन ताइवानी कंपनी के खिलाफ वियतनाम में हुए विरोध को अधिकारियों ने सख्ती से दबा दिया. होआ पर भी विरोध प्रदर्शनों में भाग लेने का आरोप लगाया गया. होआ को अप्रैल में गिरफ्तार किया था. सात साल कैद की सजा काटने के बाद उसे तीन साल तक अपने घर में नजरबंद भी रखा जायेगा.

वियतनाम में कम्युनिस्ट पार्टी की एकदलीय व्यवस्था है और उसने सरकारी की आलोचना पर प्रतिबंध लगा रखा है. मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल की 2016 में जारी एक रिपोर्ट के अनुसार वियतनाम में 91 राजनीतिक बंदी हैं, लेकिन सरकार राजनीतिक बंदियों की उपस्थिति को नकारती है. जून 2017 के बाद से कम से कम एक दर्जन एक्टिविस्टों को सरकार विरोधी गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार किया गया है और सजा दी गयी है.

एमजे/ओएसजे (डीपीए, एएफपी)

DW.COM

विज्ञापन