लैंडिंग के वक्त फिसलकर खाई में गिरा एयर इंडिया का विमान, 18 की मौत | भारत | DW | 08.08.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

लैंडिंग के वक्त फिसलकर खाई में गिरा एयर इंडिया का विमान, 18 की मौत

केरल के कोझिकोड़ में शुक्रवार रात एयर इंडिया का एक विमान लैंडिंग के समय फिसलकर खाई में जा गिरा और उसके दो हिस्से हो गए. हादसे में पायलट समेत कुल 18 लोग मारे गए हैं, जबकि 120 घायल हैं.

कोझिकोड़ एयरपोर्ट पर हादसा

केरल के कोझिकोड़ एयरपोर्ट पर हुआ हादसा

विमान दुबाई से आ रहा था और इसमें कोरोना महामारी के बीच विदेश में फंसे भारतीयों को लाया जा रहा था. लेकिन बारिश के बीच जैसे ही विमान पहाड़ पर बने रनवे की तरफ बढ़ रहा था, तो वह फिसलकर पास में ही एक खाई में जा गिरा.

विमान में कुल 190 लोग सवार थे जिनमें 174 वयस्क यात्री, 10 शिशु, दो पायलट और चार केबिन क्रू सदस्य थे. केरल में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अब्दुल करीम ने बताया कि घायलों में कम से कम 15 की हालत गंभीर है. दूसरी तरफ एयर इंडिया ने कहा है कि मारे गए लोगों में दोनों पायलट भी शामिल हैं जबकि कैबिन क्रू के चारों सदस्य सुरक्षित हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस विमान हादसे पर दुख जताया है और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है. उन्होंने कहा कि केरल के मुख्यमंत्री विजय पिनाराई से इस बारे में उनकी बात हुई है और प्रभावितों को हर तरह की मदद दी जा रही है.

कोझिकोड एयरपोर्ट का 2,850 मीटर का रनवे पहाड़ी की चोटी पर एक समलत जगह पर बना है और उसके दोनों तरफ 34 मीटर गहरी खाई हैं. उड्ड्यन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि बारिश के बीच विमान रनवे से आगे निकल गया और खाई में जा गिरा. शनिवार सुबह बारिश थम गई जिसके बाद राहत कार्य में तेजी आई. विमान का डाटा रिकॉर्डर बरामद कर लिया गया है.

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने खुद घटनास्थल का दौरा किया और राहत कार्य का निरीक्षण किया. उन्होंने हादसे की कई तस्वीरें ट्वीट भी की हैं.

ये भी पढ़िए: दुनिया के सबसे बड़े विमान हादसे

घायलों में से एक रंजीत पाननगाड ने टेलीफोन पर बताया कि क्रैश होने से पहले विमान ने हवा में हिचकौले खाए और फिर एकदम अंधेरा हो गया. रंजीत एक प्लंबर हैं और तीन साल से दुबई में काम कर रहे थे. लेकिन पिछले दिनों उनकी नौकरी चली गई, जिसके बाद वह इस उड़ान पर सवार होकर घर लौट रहे थे. रंजीत का कहना है, "मैं अब भी ठीक से याद नहीं कर पा रहा हूं कि हादसे के समय क्या क्या हुआ. मैं उस पल को याद करता हूं कि मेरा शरीर कांपने लगता है."

इसी एयरपोर्ट पर साल भर पहले ऐसा ही एक हादसा टाला गया था जब लैडिंग के समय विमान का पिछला हिस्सा दुर्घटनाग्रस्त हो गया है. उस वक्त विमान में सवार सभी 180 यात्री सुरक्षित रहे. वैसे भारत में सबसे बड़ा विमान हादसा 21 नवंबर 1996 को हरियाणा के चरखी दादरी में हुआ था जब सऊदी अरब एयरलाइन और कजाखस्तान एयरलाइन के विमान हवा में एक दूसरे टकरा गए थे. इस हादसे में दोनों विमानों पर सवार सभी 349 लोग मारे गए थे.

एके/एमजे (एपी, एएफपी, डीपीए)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

ये भी पढ़िए: मौत के मुंह से लौटे लोग

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन