लापता विमान के नए डाटा जारी | दुनिया | DW | 27.05.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

लापता विमान के नए डाटा जारी

भारी मांग और दबाव के बाद मलेशिया ने मार्च में लापता हुए विमान के डाटा सार्वजनिक कर दिए हैं. लगभग ढाई महीने के बाद भी विमान का कुछ पता नहीं लग पाया है और समझा जाता है कि यह हिन्द महासागर में कहीं क्रैश हो गया है.

मलेशिया के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि इसने 47 पन्नों के आंकड़े जारी किए हैं, जो ब्रिटिश सैटेलाइट ऑपरेटर इनमरसैट ने इकट्ठा किया है. इसमें बातचीत का ब्योरा शामिल है. विश्लेषकों का कहना है कि यह बहुत ही तकनीकी मामला है और इससे किसी तरह का कोई नतीजा निकालने में काफी वक्त लग सकता है.

क्वालालंपुर से बीजिंग के लिए उड़ा विमान रास्ते में अचानक लापता हो गया. इसके बाद से 239 यात्रियों और चालक दल के सदस्यों के बारे में कोई सूचना नहीं है. विमान के बारे में भी कुछ पता नहीं लग पाया. हालांकि इसकी तलाश में ऑस्ट्रेलिया और चीन ने काफी महंगे प्रोजेक्ट की शुरुआत की.

MH 370 Suche 15.04.2014

अथाह समुद्र में तलाशी का काम

दावा लेकिन सबूत नहीं

अधिकारियों ने बार बार दावा किया है कि विमान हिन्द महासागर में कहीं क्रैश हो गया. हालांकि यह बात कभी साबित नहीं हो पाई. विमान में सवार फिलिप वुड की गर्लफ्रेंड सारा बाक का कहना है, "पहली बात तो हम यह देखना चाहेंगे कि क्या आंकड़े सही हैं." बाक और दूसरे मुसाफिरों के रिश्तेदारों का कहना है कि वे यह जानना चाहते हैं कि क्या विमान का दूसरा पथ भी संभव था.

इन्होंने 20 मई को एक संयुक्त रिपोर्ट जारी की है, जिसमें कहा गया, "उन्होंने इस बात का जिक्र नहीं किया है कि इनमरसैट के आंकड़े को क्यों इतना पक्का मान रहे हैं कि सारे संसाधन वहीं लगा दे रहे हैं."

आंकड़ों पर सवाल

सिंगापुर में फ्लाइटग्लोबल नाम की पत्रिका के संपादक ग्रेग वैलड्रन का कहना है कि इनमरसैट के आंकड़े ठीक हो सकते हैं लेकिन सब कुछ इतना पक्का नहीं, "मैं यह कहने का साहस नहीं कर सकता कि वे सही जगह तलाश कर रहे हैं. सच तो यह है कि वे इस तरह के आंकड़े का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो बताता है कि वे कितने बेसब्र हैं."

मलेशियाई अधिकारियों ने कभी खुल कर इन आंकड़ों के बारे में नहीं बताया है और उनका कहना है कि जांच पूरी होने पर ही वे इस बारे में कुछ कहेंगे. उधर ऑस्ट्रेलिया ने विमान की तलाश के लिए अपने बजट में अगले दो साल में साढ़े आठ करोड़ डॉलर का प्रावधान रखा है. तलाशी के एक चरण का पहला हिस्सा इसी हफ्ते खत्म हो रहा है. इसके तहत ऑस्ट्रेलियाई जहाज अमेरीकी नौसेना के उपकरणों की मदद से विमान के मलबे की तलाश कर रहा था. अगले हिस्से में अत्याधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल होगा, जिससे हमासागर के अनछुए इलाके में तलाशी की जा सकेगी.

एजेए/एमजी (एएफपी)

संबंधित सामग्री