लहसुन उगाने वाले किसान ने बनाया हवाई जहाज | दुनिया | DW | 26.10.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

लहसुन उगाने वाले किसान ने बनाया हवाई जहाज

चीन के एक किसान का जब विमान उड़ाने का सपना पूरा नहीं हो सका तो उसने अपने लिए खुद ही जहाज बना लिया. इस किसान का विमान अब लगभग तैयार है लेकिन यह उड़ान नहीं भर सकता.

लहसुन उगाने वाले किसान झू युए ने हूबहू एयरबस ए320 की नकल बनाई है. उत्तरपूर्व चीन के गेहूं वाले खेतों से गुजरती सड़क पर यह विमान दिखता है. झू मिडल स्कूल तक की पढ़ाई भी पूरी नहीं कर सके और प्याज लहसुन की खेती में जुट गए. इसके बाद उन्होंने कायुन शहर में वेल्डिंग का काम करने वाली एक छोटी सी फैक्ट्री का रुख कर लिया. पिछले साल उन्हें यह अहसास हुआ कि वो कभी भी विमान नहीं उड़ा पाएंगे. समाचार एजेंसी एएफपी से बातचीत में झू ने कहा, "मैंने आधी उम्र पूरी कर ली और यह समझ गया कि मैं विमान खरीद नहीं सकता लेकिन मैं बना सकता हूं."

उन्होंने अपने जीवन भर की बचत यानी करीब 3,74,000 डॉलर की रकम इस काम में लगाने का फैसला कर लिया. इसकी शुरुआत एयरबस 320 के एक खिलौने वाले मॉडल से हुई. यह असल विमान के आकार का करीब 18वां हिस्सा था. इस मॉडल के सहारे उन्होंने नापतौल शुरू की, ऑनलाइन तस्वीरों का अध्ययन किया, कई बार गलतियां भी हुईं लेकिन उन्होंने विमान का धड़, पंख, कॉकपिट, इंजन और पिछला हिस्सा बना लिया. इसमें उन्होंने करीब 60 टन स्टील खर्च किया.

विमान के शौकीन पांच उत्साही साथी मजदूरों ने उन्हें इस काम को तेजी से पूरा करने में मदद दी. झू बताते हैं, "एक तरफ वे पैसा कमा रहे थे तो दूसरी तरफ अपना सपना पूरा कर रहे थे, चीजों को हासिल कर रहे थे."

झू के हाथों से बने इस एयरबस के हाल फिलहाल उड़ान भरने के आसर नहीं हैं, झू इसे एक ढाबे में तब्दील करना चाहते हैं. हाल ही में इसमें उन्होंने एक खुद से बनाया कॉकपिट जोड़ा है जिसमें फ्लाइट इंस्ट्रूमेंट्स की प्रतिकृतियां लगी हुई हैं. इसके साथ ही इसमें सवार होने के लिए सीढ़ियों वाली गाड़ी भी आ गई है.

झू ने कहा, "हम लाल कालीन भी डालेंगे ताकि यहां खाने के लिए आने वाला हर मेहमान खुद को किसी राष्ट्रप्रमुख की तरह महसूस करे."

एयरबस 320 के पारंपरिक 156 सीटों को यहां 36 फर्स्ट क्लास सीटों में बदल दिया गया है. हालांकि अभी वो यह तय नहीं कर पाए हैं कि विमान में आने वाले ग्राहकों को वे हैमबर्गर और फ्रेंच फ्राइज परोसें या फिर आम चायनीज भोजन जो स्थानीय लोगों की पसंद है. हालांकि झू को इतना जरूर यकीन है कि जल्द ही भूखे यात्रियों में उनके विमान की सवारी करने के लिए होड़ मच जाएगी.

एनआर/आईबी (एएफपी)

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

विज्ञापन