लंदन मेट्रो से हटेंगे पतली मॉडल्स के विज्ञापन | दुनिया | DW | 17.06.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

लंदन मेट्रो से हटेंगे पतली मॉडल्स के विज्ञापन

लंदन की मेट्रो ट्रेनों से दुबली पतली मॉडलों वाले विज्ञापन हटाए जाएंगे. लंदन के मेयर को लगता है कि ऐसे विज्ञापनों से आम महिलाओं में हीन भावना भरती है.

लंदन के मेयर ने शहर के सबवे नेटवर्क (मेट्रो) से ऐसे विज्ञापन हटाने को कहा है. जुलाई से ट्रेनों में ऐसे विज्ञापन नहीं दिखेंगे. मई 2016 में लंदन के पहले विदेशी मूल के मेयर बनने वाले सादिक खान ने कहा, "मैं खुद भी दो किशोर बेटियों का पिता हूं, मुझे इस बात से बहुत ही ज्यादा चिंता होती है कि ऐसे विज्ञापन लोगों को हीन भावना का अहसास कराते हैं, खासतौर पर महिलाओं को, उन्हें अपने शरीर को लेकर शर्म आने लगती है. बहुत हुआ, अब इसे खत्म करना ही होगा."

खान ने यह भी कहा कि, "'ट्यूब या बस में यात्रा करते समय किसी को दबाव महसूस नहीं करना चाहिए कि शरीर के लेकर उनसे अव्यवहारिक उम्मीद की जा रही है. मैं विज्ञापन जगत को साफ संदेश देना चाहता हूं."

London Bürgermeister Sadiq Khan

लंदन के मेयर सादिक खान

विवाद ट्रेनों में चिपकाए गए एक पोस्टर विज्ञापन से शुरू हुआ. प्रोटीन वर्ल्ड के पोस्टर में बिकिनी पहनी हुए एक दुबली पतली मॉडल थी, पोस्टर में संदेश था कि क्या आपका शरीर बीच पर जाने लायक है? 2015 में इस विज्ञापन के खिलाफ सबसे ज्यादा 378 शिकायतें मिलीं.

ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन के अधिकारी ग्रैम क्रैग ने भी मेयर के आदेश की पुष्टि की. क्रैग ने कहा, हमारे नेटवर्क में विज्ञापन दूसरी जगहों से अलग होते हैं क्योंकि "अगर विज्ञापन पसंद न आए या दुखी करें तो हमारे ग्राहकों के पास स्विच ऑफ करने का या पन्ना पलटने के विकल्प नहीं है." यात्रियों को उस विज्ञापन का यात्रा के दौरान सामना करना ही पड़ेगा.

खान के फैसले पर लोगों की राय बंटी हुई है. महिला अधिकारों की बात करने वालों ने मेयर के साहसिक फैसले की तारीफ की है. सेक्सिज्म और महिलाओं को उत्पाद बनाकर पेश करने की ये बहस नई नहीं है. लंकास्टर यूनिवर्सिटी में विज्ञापन मनोविज्ञान की विशेषज्ञ लेसली हालम मेयर खान के फैसले की तारीफ करती हैं. लेसली कहती हैं कि अंडरग्राउंड से गुजरने पर "सॉफ्ट पोर्न फिल्म जैसा" लगता है क्योंकि वहां महिलाओं अंत वस्त्रों के इतने ज्यादा विज्ञापन होते हैं, खासतौर पर क्रिसमस के दौरान.

वहीं पाकिस्तानी और मुस्लिम मूल के कारण खान को अलोचना का सामना भी करना पड़ रहा है. प्रोटीन वर्ल्ड का कहना है कि विज्ञापन में दिखाई गई महिला स्वस्थ है और उसे देखकर बाकी महिलाएं भी प्रेरित होंगी. कुछ आलोचक कह रहे हैं कि अगर भविष्य में वजन कम करने का विज्ञापन मोटे लोगों को दुखी करेगा तो क्या उसे भी हटाया जाएगा.

DW.COM

संबंधित सामग्री