यूरो टनल में आप्रवासियों का तांता | दुनिया | DW | 05.08.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूरो टनल में आप्रवासियों का तांता

फ्रांस और ब्रिटेन को जोड़ने वाली चैनल टनल इन दिनों यूरोप के लिए सिरदर्द बन गयी है. आप्रवासी इस सुरंग के जरिए ब्रिटेन पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं. ईयू ने इस समस्या से निपटने के लिए फ्रांस और ब्रिटेन की मदद की घोषणा की है.

सोमवार को एक बार फिर लोगों ने अवैध रूप से सुरंग में प्रवेश करना चाहा. स्थानीय पुलिस ने मंगलवार को आंकड़ा 600 के करीब बताया. पिछले हफ्ते इस तरह से सुरंग में घुसने से सूडान के एक 30 वर्षीय व्यक्ति की जान चली गयी. जून से अब तक कम से कम दस लोगों की इस तरह से मौत हो चुकी है. ये लोग ब्रिटेन में रह रहे अपने परिजनों तक पहुंचने की चाह में सुरंग का रास्ता ले रहे हैं.

यूरोपीय आयोग का कहना है कि आप्रवासियों की समस्या से निपटने के लिए वह फ्रांस को दो करोड़ यूरो की मदद राशि की पहली किस्त देगा. ब्रिटेन को भी 2.7 करोड़ यूरो मुहैया कराए जा चुके हैं. यूरोपीय आयोग के आप्रवासन और आंतरिक मामलों के आयुक्त दिमित्रिस आवरामोपूलोस ने बताया कि 2014 से 2020 के बीच आप्रवासियों से निपटने के लिए फ्रांस को कुल 26 करोड़ और ब्रिटेन को 37 करोड़ यूरो दिए जाएंगे. इसके अलावा आयोग ने तकनीकी सहयोग देने की भी बात कही है, जिसके तहत आवेदन पत्रों को जल्द प्रोसेस किया जा सकेगा.

आवरामोपूलोस ने बयान जारी कर कहा है, "यूरोपीय सीमा सुरक्षा एजेंसी फ्रंटेक्स आप्रवासियों की पहचान करने और उन्हें पंजीकृत करने में मदद कर सकती है." यह सुरंग उत्तरी फ्रांस के कैले से शुरू होती है, जहां पुलिस अवैध आप्रवासियों को हिरासत में ले रही है. आवरामोपूलोस ने इस बारे में कहा, "हम आप्रवासियों की ऐसी समस्या से जूझ रहे हैं, जहां संख्या असाधारण है और इसका सीधा संबंध यूरोप के इर्दगिर्द चल रहे संकटों से है. यह एक ऐसी चुनौती है जो सभी देशों की सीमाओं के परे है और हमें एकजुट हो कर इससे निपटना होगा."

75,000 की आबादी वाला फ्रांस का कैले एक टूरिस्ट आकर्षण रहा है. यह एक ऐसा खूबसूरत शहर है जिसका जिक्र चार्ल्स डिकेंस और विक्टर हूगो के उपन्यासों में भी मिलता है. लेकिन ताजा संकट के चलते यहां टूरिज्म पर भारी असर पड़ रहा है. यहीं से यूरोस्टार ट्रेन यूरोप की मुख्य भूमि को ब्रिटेन से जोड़ती है. अवैध रूप से यहां आ रहे आप्रवासियों की बढ़ती संख्या को ले कर शहर की मेयर ने भी चिंता जताई है और टूरिज्म को हो रहे नुकसान के लिए ब्रिटेन को जिम्मेदार ठहराते हुए मुआवजा मांगने की बात भी कही है.

आईबी/एमजे (एएफपी, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री