यूरोप में कमजोर पड़ा कोरोना, लॉकडाउन में और ढील | दुनिया | DW | 18.05.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

यूरोप में कमजोर पड़ा कोरोना, लॉकडाउन में और ढील

स्पेन, इटली और ब्रिटेन में हाल के दिनों में कोरोना से सबसे कम मौतें दर्ज की गई हैं. ऐसे में यूरोप के कई देशों में लगी पाबंदियों में सोमवार से ढील दी जा रही है.

यूरोप में कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में शामिल रहे इटली में संग्रहालयों और चर्चों को दोबारा खोलने की अनुमति दे दी गई है. रेस्तरां और बार भी खोले जा रहे हैं. हालांकि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के पालन पर जोर रहेगा.

डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगेन में मिडिल स्कूल खुलने के बाद छात्र पहली बार अपनी कक्षा में पहुंचे हैं. वहां भी कैफे और बार भी खुल रहे हैं. फ्रांस और बेल्जियम में भी कुछ इलाकों में स्कूल खोलने का फैसला किया गया है.

कोविड-19 से दुनिया भर में 47 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और अब तक 3.14  लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस से मारे गए हैं. लेकिन यूरोप में अब धीरे धीरे स्थिति बेहतर हो रही है. स्पेन में दो महीनों में पहली बार ऐसा हुआ है जब एक दिन में कोरोना वायरस से मरने वालों का आंकड़ा 100 से कम रहा है. यूरोप में अब तक 18 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं जबकि मरने वालों की संख्या 1.66 लाख से ज्यादा है.

ये भी पढ़िए: ऐसी दिखेगी लॉकडाउन के बाद की हवाई यात्रा

इस वक्त सबसे ज्यादा मामले रूस (2.81 लाख), ब्रिटेन (2.43 लाख) और स्पेन (2.30 लाख) में दर्ज किए गए हैं. संक्रमण के 2.25 लाख मामलों के साथ इटली चौथे और 1.76 लाख मामलों के साथ जर्मनी पांचवें स्थान पर है. यूरोप के भारी संक्रमण के बावजूद सबसे कम मौतें रूस में दर्ज की गई हैं. यहां अब तक 2,631 लोग इस वायरस के शिकार बने हैं. इसके बाद जर्मनी की बारी आती है जहां 7,975 लोग मरे. दूसरी तरफ 34,636 मौतों के साथ इस मामले में ब्रिटेन यूरोप में सबसे ऊपर है. इसके अलावा इटली में 31,908, फ्रांस में 28,111और स्पेन में 27 हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं. सारे आंकड़े जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के हैं.

इस बीच, पाबंदियों में ढील के बीच स्पेन में फुटबॉल लीग ला लीगा अपने ट्रेनिंग सेशन शुरू कर रही है. इस दौरान खिलाड़ी 10-10 के समूह में अभ्यास करेंगे. शनिवार को सरकार ने फैसला किया कि खेल टीमें अपने इलाकों में लॉकडाउन की पाबंदियों के बावजूद अपनी गतिविधियों को बहाल कर सकती हैं.

वीडियो देखें 02:39

रेस्तरां तो खुले लेकिन भारी पड़ रही है सोशल डिस्टेंसिंग

ला लीगा के अध्यक्ष खावियर टेबास ने कहा, "यह जरूरी है कि सभी टीमें एक ही स्तर पर ट्रेनिंग करें और हम बहुत शुक्रगुजार हैं कि अब ऐसा हो रहा है." स्पेन में 12 मार्च से और इटली में 9 मार्च से कोई मैच नहीं हुआ है. वहीं जर्मन फुटबॉल लीग बुंडेसलीगा ऐसी पहली बड़ी यूरोपीय लीग बनी जिसने सबसे पहले यानी बीते सप्ताहांत को अपनी गतिविधियां फिर से शुरू कीं.

स्पेन की राजधानी मैड्रिड और बार्सिलोना में 400 वर्ग मीटर से कम क्षेत्रफल वाली दुकानों को खोलने की इजाजत मिल गई है, हालांकि वहां जाने से पहले ग्राहकों को अपॉइंटमेंट लेना होगा. जर्मनी में भी कुछ और राज्य पाबंदियों में ढील दे रहे हैं. बार, रेस्तरां और होटल खुल रहे हैं. रेस्तरां और बार में लोगों को एक दूसरे से डेढ़ मीटर की दूरी पर बैठना होगा और वहां काम करने वाले ज्यादातर लोगों को मास्क पहनना होगा. हालांकि होटल और रेस्तराओं से जुड़े संघ ने इस सेक्टर के लिए अलग अलग राज्यों में अलग अलग नियम होने की आलोचना की है. मिसाल के तौर पर बर्लिन में वीकेंड पर बार बंद रहेंगे जबकि पड़ोसी राज्य ब्रांडेनबुर्ग में उन्हें खोले रखने की अनुमति होगी.

पुर्तगाल, बेल्जियम, पोलैंड और ग्रीस में भी पाबंदियों में ढील दी जा रही है.

एके/एनआर (एएफपी, डीपीए)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

ये भी पढ़िए: कोरोना के समय सुरक्षित शॉपिंग कैसे करें?

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन