यूरोपीय संघ के चुनाव का दूसरा दिन | दुनिया | DW | 24.05.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

यूरोपीय संघ के चुनाव का दूसरा दिन

यूरोपीय संघ के चुनाव का आज दूसरा दिन है. आज आयरलैंड और चेक रिपब्लिक के लोग वोट डाल रहे हैं. एक दिन पहले हुए चुनाव में नीदरलैंड्स के सोशलिस्ट उम्मीदवार फ्रांस टिमरमांस की डच पार्टी एग्जिट पोल के मुताबिक पहले नंबर पर है.

गुरुवार से रविवार तक चलने वाले चुनाव में यूरोपीय संघ के 28 देशों के करीब 41.8 करोड़ मतदाता हिस्सा ले रहे हैं. यह दुनिया के सबसे बड़े चुनावों में से एक है जहां एक साथ इतने सारे अलग अलग देशों के लोग यूरोपीय संसद के लिए सदस्यों का चुनाव करते हैं.

Niederlande EU-Wahl Frans Timmermans (Getty Images/AFP/M. van Hoorn)

फ्रांस टिमरमांस

इस बार मतदान गुरुवार को ब्रिटेन और नीदरलैंड्स से शुरू हुआ. ब्रिटेन को इस बार चुनाव में इसलिए हिस्सा लेना पड़ा क्योंकि यूरोपीय संघ से उसकी विदाई की तारीख टल गई है. नीदरलैंड्स में एग्जिट पोल के मुताबिक समाजवादियों ने करीब 18.4 फीसदी वोट हासिल किया है. टिमरमांस जर्मनी की रुढ़िवादी यूरोपियन पीपुल्स पार्टी के उम्मीदवार मानफ्रेड वेबर को यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष पद के लिए चुनौती दे रहे हैं.

यूरोपीय संसद में सोशलिस्ट धड़े के प्रमुख उडो बुलमान ने टिमरमांस पर भरोसा जताया है. चुनाव से पहले हुए ओपिनियन पोल में पार्टी के खराब प्रदर्शन की आशंका जताई गई थी. बुलमान ने समाचार एजेंसी डीपीए से बातचीत में कहा, "पूरे यूरोपीय संदर्भ में चीजें हमारे लिए अच्छी दिख रही हैं." उन्होंने ध्यान दिलाया कि संसद में मामूली बढ़त से जीतना जितना अहम नहीं है उससे ज्यादा अहम अपनी नीतियों के लिए गठजोड़ बनाना है. बुलमान ने कहा, "मैं निश्चिंत हूं कि हम फ्रांस टिमरमांस के लिए आयोग के अध्यक्ष के रूप में सहयोगी ढूंढ लेंगे."

चुनाव के साथ यूरोपीय संघ में एक राजनीतिक चक्र शुरू हुआ है जिसमें कई प्रमुख संस्थाओं के नेतृत्व में बदलाव होगा. यह ऐसे वक्त में हो रहा है जब ब्रिटेन की नियोजित विदाई पर यूरोपीय संघ अपने अंत:करण में झांक रहा है और संघ बाहरी और अंदरूनी खतरों के बारे में सोच रहा है.

ओपिनियन पोल से पता चल रहा है कि दक्षिणपंथी लोकलुभावन पार्टियां अच्छा प्रदर्शन करेंगी और अगले पांच साल इसका यूरोपीय संघ के फैसलों पर बहुत असर होगा.

आयरलैंड में इन चुनावों से प्रधानमंत्री लियो वारडकार की मध्य दक्षिणपंथी पार्टी फिने गेल की अल्पमत वाली सरकार की परीक्षा होगी. यहां ग्रीन पार्टी के अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद की जा रही है.

आयरलैंड में इस बात के लिए भी जनमतसंग्रह हो रहे हैं कि शादीशुदा जोड़ों को तलाक पाने के लिए अलग रहने की समय सीमा पांच साल से घटा कर 2 साल कर दी जाए. उम्मीद है कि इसे भारी मतों से मंजूरी मिल जाएगी. इससे यह भी पता चलता है 1995 में तलाक शुरू करने वाला देश अब कितना बदल चुका है.

यहां कॉर्क और लिमरिक के मतदाताओं से चुनाव के जरिए यह भी पूछा जा रहा है कि क्या वो सीधे चुने जाने वाले मेयर चाहते हैं, हालांकि इसका नतीजा क्या होगा अभी तय नहीं है.

आयरलैंड में वोटिंग 10 बजे रात में खत्म होगी जबकि चेक रिपब्लिक में यह शनिवार को भी जारी रहेगी.

यूरोपीय संघ के चुनाव में वोटरों की भागीदारी लगातार कम हो रही है. 2014 में यह घट कर महज 42.6 फीसदी रह गई. चेक गणराज्य में तो 2014 में महज 14 फीसदी लोगों ने वोट डाला था जबकि आयरलैंड में 52 फीसदी.

वोटरों की कम भागीदारी छोटे दलों को फायदा पहुंचा सकती है क्योंकि उनके समर्थक मुख्यधारा की पार्टियों की तुलना में ज्यादा उत्साह दिखा रहे हैं.

एनआर/एए (डीपीए)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन