यूरोपीय देशों पर मानवाधिकार हनन के आरोप | दुनिया | DW | 05.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

यूरोपीय देशों पर मानवाधिकार हनन के आरोप

यूरोपीय संघ के कई देशों में आप्रवासियों के साथ अमानवीय तरीके से पेश आया जा रहा है और यूरोपीय सीमा पुलिस चुपचाप देखती रहती है. यूरोपीय आयोग ने आरोपों के सामने आने के बाद जल्द ही जांच कराने की बात कही है.

जर्मनी की सरकारी टीवी चैनल एआरडी और कुछ अन्य मीडिया हाउस के अनुसार यूरोपीय सीमा सुरक्षा एजेंसी फ्रंटेक्स ने ग्रीस, बुल्गारिया और हंगरी की सीमाओं पर राष्ट्रीय अधिकारियों द्वारा मानवाधिकारों के हनन को चुपचाप स्वीकार किया है. मीडिया रिपोर्टों में विदेशियों के खिलाफ अत्यधिक बलप्रयोग, शरणार्थियों के साथ दुर्व्यवहार और कुत्तों के साथ उन्हें खदेड़ने की बात कही गई है. इन आरोपों के लिए सीमा सुरक्षा बल के अपने दस्तावेजों का हवाला दिया गया है.

मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि कि फ्रंटेक्स के अधिकारी  स्वयं भी शरणार्थियों को विमानों से वापस भेजे जाने के दौरान मानवाधिकारों के हनन में शामिल थे. विमान यात्रा के दौरान शरणार्थियों को दवा देकर शांत कर दिया गया या हथकड़ियों का इस्तेमाल जरूरत नहीं होने पर भी किया गया. यूरोपीय आयोग ने कहा है कि आरोप की फ्रंटेक्स के साथ मिलकर जांच कराई जाएगी और पोलैंड की राजधानी वॉरसा में स्थित संगठन उचित कार्रवाई करेगा. यूरोपीय आयोग की प्रवक्ता ने कहा, "हिंसा का हर रूप या आप्रवासियों और शरणार्थियों के साथ दुर्व्यवहार अस्वीकार्य है." फ्रंटेक्स ने भी मौलिक अधिकारों के हनन में शामिल होने से इंकार किया है. 

यूरोपीय सीमा सुरक्षा एजेंसी ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा है, "फ्रंटेक्स मौलिक अधिकारों के हनन में अपने अधिकारियों की भागीदारी से सख्ती से इंकार करता है." अधिकारियों ने कहा कि फ्रंटेक्स के कर्मचारियों को गल्तियों के लिए सजा दी जाएगी लेकिन अब तक उनके खिलाफ कोई शिकायत नहीं की गई है. एजेंसी ने यह भी कहा है कि हर अधिकारी मानवाधिकारों के हनन के मामलों की रिपोर्ट करने के लिए कर्तव्यबद्ध है, लेकिन राष्ट्रीय अधिकारियों के बर्ताव पर उनका कोई अधिकार नहीं है, ना ही वे सदस्य देशों में जांच कर सकते हैं. बुल्गारिया के गृह मंत्री म्लादेन मारीनोव ने भी आरोपों से इंकार किया है.

जर्मन गृह मंत्रालय ने भी आरोपों की पुष्टि नहीं की है. मंत्रालय की एक प्रवक्ता ने सोमवार को कहा, "हम किसी मिशन के बारे में नहीं बता सकते जिसमें मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ हो. इसके बारे में हमें कोई जानकारी भी नहीं है." प्रवक्ता ने भरोसा दिलाया कि अब मानवाधिकारों के हनन पर चर्चा होगी. प्रवक्ता ने बतया कि जर्मनी के इस समय ग्रीस में 105 अधिकारी तैनात हैं. मीडिया रिपोर्टों में जिन देशों पर आरोप लगाए गए हैं उनकी लंबे समय से सर्बिया की सीमा पर पकड़े जाने वाले शरणार्थियों के साथ व्यवहार के लिए आलोचना हो रही है. लोगों को लात मारा जाता है और पिटाई होती है.

फ्रंटेक्स यूरोपीय देशों की सीमा की सुरक्षा में मदद करता है और सदस्य देशों के पुलिस कर्मियों के साथ मिलकर काम करता है. यूरोपीय संसद और सदस्य देशों के बीच हुए समझौते के अनुसार 2027 तक फ्रंटेक्स के अधिकारियों की संख्या बढ़ाकर 10,000 कर दी जाएगी. साथ ही उनके अधिकारों को भी बढ़ाया जाएगा. यूरोपीय सीमा पर मानवाधिकारों के हनन के रिपोर्ट आने के बाद उसकी कड़ी आलोचना हो रही है. ग्रीन पार्टी के मानवाधिकार प्रवक्ता मार्गरेटे बाउजे ने कहा है कि असह्य स्थिति को तुरंत खत्म किया जाना चाहिए. यूरोप की बाह्य सुरक्षा का नताजा ये नहीं होना चाहिए कि यूरोपीय अधिकारी मानवाधिकारों के हनन को बर्दाश्त करें या स्वयं अंजाम दें.

एमजे/एनआर (डीपीए)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

ये हैं यूरोपीय संघ के सदस्य देश

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन