यूक्रेन: विफल बातचीत के बाद उग्र प्रदर्शन | दुनिया | DW | 24.01.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूक्रेन: विफल बातचीत के बाद उग्र प्रदर्शन

यूक्रेन में कड़ाके की सर्दी के बावजूद प्रदर्शन बढ़ गए हैं. राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के साथ विफल बातचीत के बाद प्रदर्शनकारियों ने एक सरकारी इमारत पर कब्जा कर लिया है.

विपक्ष के नेता और बॉक्सर विटाली क्लिचको ने आशंका जताई है कि देश में और खून बह सकता है. अब तक तीन लोगों की जान जा चुकी है. इनमें से दो प्रदर्शनकारियों की गोलियों से मौत हुई. राष्ट्रपति से दूसरे दौर की बातचीत के बाद क्लिचको ने बताया कि सरकार लोगों की मांगें पूरी करने के लिए तैयार नहीं है.

प्रदर्शनों का दायरा बढ़ा

शुक्रवार सुबह ही करीब एक हजार प्रदर्शनकारी कीव के स्वतंत्रता मैदान से हट कर राष्ट्रपति मुख्यालय की ओर बढ़ने लगे और नए बैरिकेड लगाने लगे. बैठक के बाद क्लिचको ने पहले घेराबंदी कर रहे लोगों से बात की और उसके बाद मैदान पहुंचे. हजारों लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "इतने घंटों की बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला है. किसी ऐसे इंसान के साथ बैठ कर बात करने का कोई मतलब ही नहीं है जिसने पहले से ही आपको धोखा देने का मन बना लिया है."

क्लिचको ने चेतावनी भरे स्वर में कहा, "मैं पूरी ईमानदारी से चाहता हूं कि और लहु ना बहे, और लोग मारे ना जाएं. मैं तो बच निकलूंगा, लेकिन मुझे डर है कि लोगों की जानें जाएंगी...यह मैदान आजादी का प्रतीक है और जब तक हमारी आवाज सुन नहीं ली जाती, हम मैदान का दायरा बढ़ाते रहेंगे."

Kiew Gewalt und Protest 23.01.2014

दो महीने से ज्यादा वक्त से विरोध जारी

कीव से बाहर प्रदर्शन

क्लिचको के साथ दो अन्य विपक्षी नेता भी राष्ट्रपति के साथ बातचीत में शामिल हुए. चार घंटे तक चली बैठक के बाद भी कोई ठोस नतीजा नहीं निकल सका. क्लिचको ने बताया कि राष्ट्रपति समझते हैं कि स्थिति नाजुक हो गयी है, लेकिन इसे बावजूज विपक्ष की मांगों में उन्होंने कोई रुचि नहीं दिखाई.

इस बीच प्रदर्शन कीव से बाहर दूसरे इलाकों में भी पहुंच रहे हैं. कीव से 200 किलोमीटर दूर चेरकेसी में करीब एक हजार प्रदर्शनकारियों ने प्रशासन के मुख्यालय पर कब्जा किया और इमारत के बाहर आग जलाई. कीव में लोग डायनमो फुटबॉल स्टेडियम में भी जमा हो रहे हैं. टायर जला कर प्रदर्शन करने के कारण स्टेडियम के आसपास लगातार काला धुआं उठते हुए देखा जा सकता है. गुरूवार रात को अपने भाषण में क्लिचको ने कहा, "आज कई शहरों में विद्रोह हुआ. कल और भी कई इसमें शामिल हो जाएंगे."

राजधानी कीव में दो महीने से प्रदर्शन चल रहे हैं. इस बीच प्रदर्शनकारियों ने कृषि मंत्रालय के मुख्यालय पर कब्जा कर लिया है. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन्हें किसी गर्म जगह की जरूरत है, जहां सर्दी में लोग हाथ पांव सेंक सकें. कीव में इन दिनों तापमान शून्य से 16 डिग्री कम है.

आईबी/एमजी (एएफपी, रॉयटर्स)

कीव में जारी प्रदर्शन पर फोटो गैलरी देखें

DW.COM

विज्ञापन