यूएई से समझौते के बाद भी इस्राएल वेस्ट बैंक पर अधिकार जमा सकता है | दुनिया | DW | 14.08.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

यूएई से समझौते के बाद भी इस्राएल वेस्ट बैंक पर अधिकार जमा सकता है

संयुक्त अरब अमीरात के साथ इस्राएल की ऐतिहासिक संधि की घोषणा के कुछ ही घंटों बाद इस्राएल में अमेरिका के राजदूत ने कहा कि इस्राएल ने पश्चिमी तट पर अपना अधिकार जमाने की योजना का त्याग नहीं किया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के साथ एक समाचार वार्ता में डेविड फ्रीडमन ने कहा, "वो अभी मेज से हटा नहीं है, सिर्फ तब तक टल गया है जब तक हम शांति को हर संभव अवसर नहीं दे देते." इस्राएल और यूएई एक ऐतिहासिक संधि के तहत आपसी रिश्तों को सामान्य करने पर सहमत हो गए हैं. यूएई इस्राएल के साथ इस तरह का समझौता करने वाला सिर्फ तीसरा अरब देश बन गया है. संधि के तहत, इस्राएल ने फिलिस्तीनी भूमि पर अधिकार जमाने की प्रक्रिया को रोक देने का वादा किया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने गुरूवार को घोषणा की कि इस्राएल और यूएई के नेता संधि पर व्हाइट हाउस में लगभग तीन सप्ताह बाद हस्ताक्षर करेंगे. संधि की घोषणा के कुछ घंटों बाद एक समाचार वार्ता में बोलते हुए ट्रंप ने नेतन्याहू और यूएई के शासक शेख मोहम्मद बिन जायेद अल-नैहान को "दूरदर्शिता और नेतृत्व" दिखाने वाले "शानदार" साझेदार बताया.

इस्राएली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने कहा कि यह एक "ऐतिहासिक दिन" है और यह अरब देशों और इस्राएल के लिए एक "नए युग" की शुरुआत करेगा. लेकिन फिलिस्तीनियों ने संधि को दृढ़तापूर्वक खारिज कर दिया और उसे उनके आंदोलन और यरुशलम पर उनके भावी राज्य की राजधानी के दावे के साथ "विश्वासघात" बताया.

Gazastreifen Rafah Luftangriff (AFP/S. Khatib)

यूएई के साथ संधि की घोषणा से पहले बुधवार को इस्राएल ने गाजा पट्टी पर हवाई हमले किए.

संधि पर हस्ताक्षर के लिए जब व्हाइट हाउस में सम्मेलन होगा, तब उस से अमेरिका में मध्य पूर्वे से संबंधित पिछली संधियों पर हस्ताक्षर की यादें ताजा हो जाएंगी. इनमें 1993 की ओस्लो संधियां शामिल हैं जिनके तहत इस्राएली नेता यित्झाक रेबिन और फिलिस्तीनी नेता यासिर अराफात वॉशिंगटन में एक साथ आए थे.

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने भी उस सम्मलेन की मेजबानी की थी जिसमें मिस्र के अनवर सादत और इस्राएल के मेनाचेम बेगिन के बीच 1978 में कैंप डेविड संधियों पर हस्ताक्षर हुए थे.

इसी बीच संयुक्त राष्ट्र के महासचिव अंटोनियो गुटेरेश ने उम्मीद व्यक्त की है इस्राएल-यूएई संधि मध्य पूर्व में शांति के लिए फिलिस्तीनियों के साथ दो-राज्य समाधान को हासिल करने में मददगार साबित होगी. गुटेरेश ने कहा कि पश्चिमी बैंक का कब्जा इस्राएल और फिलिस्तीन के नेताओं के बीच बातचीत के "रास्ते प्रभावी रूप से बंद कर देगा" और दो-राज्य समाधान के तहत एक व्यवहार्य फिलिस्तीनी राज्य की "संभावना को नष्ट" कर देगा.

सीके/एए (एएफपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन