युवा ′कूल′ दिखने के लिए करते हैं धूम्रपान | विज्ञान | DW | 01.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

युवा 'कूल' दिखने के लिए करते हैं धूम्रपान

फेसबुक पर लाइक्स की चाहत में सिगरेट को हाथ में लेना क्या वाकई "कूल" कहलाएगा? बहुत से युवाओं को ऐसा ही लगता है.

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर आईसीआईसीआई लोंबार्ड जनरल इंश्योरेंस द्वारा 1,000 युवाओं पर किए गए ऑनलाइन सर्वेक्षण से पता चला है कि 20-35 आयुवर्ग के 23 प्रतिशत युवा 'कूल' दिखने के लिए धूम्रपान करते हैं. सर्वेक्षण के अनुसार 15 प्रतिशत युवाओं को धूम्रपान करते हुए अपनी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर पोस्ट करने में कोई परेशानी नहीं है. इसके विपरीत अधिक उम्र के 53 प्रतिशत लोगों का मानना है कि धूम्रपान व्यक्तिगत मामला है और 23 प्रतिशत ने माना कि उन्हें सोशल मीडिया पर अपनी इस आदत को नहीं दिखाना चाहिए.

सर्वेक्षण से पता चला है कि व्यक्ति की भावनात्मक सोच धूम्रपान का मुख्य कारक बनी हुई है. युवा समूह तनाव से निजात पाने के लिए धूम्रपान करते हैं, जबकि 35-50 वर्ष के व्यक्ति काम के दबाव को इसके लिए जिम्मेवार ठहराते हैं. इस सर्वेक्षण से यह भी पता चलता है कि धूम्रपान की प्रवृत्तियों पर जीवन की कुछ घटनाओं का प्रभाव पड़ता है, जिनके चलते व्यक्ति काफी धूम्रपान करने लगता है. सर्वेक्षण में शामिल 37 प्रतिशत लोगों ने माना की नौकरी पाने के बाद उन्होंने धूम्रपान बढ़ा दिया है.

महिलाओं में 36-50 वर्ष के आयु समूह की महिलाएं अधिक धूम्रपान करती पाई गईं. सर्वेक्षण में शामिल 60 प्रतिशत लोगों ने स्वीकारा कि उन्होंने धूम्रपान छोड़ने के लिए कभी भी कोशिश नहीं की क्योंकि यह उनके वश में नहीं है. जिन लोगों ने इसे छोड़ने की कोशिश की, उन्होंने परिवार के दबाव और स्वास्थ्य संबंधी चिंता को सबसे बड़ा कारण माना.

सर्वेक्षण के बारे में प्रतिक्रिया देते हुए आईसीआईसीआई के संजय दत्ता ने कहा, "धूम्रपान की आदत चिकित्सकीय रूप से हानिकारक साबित हो चुकी है. यही नहीं, इससे भी अधिक चिंता की बात यह है कि युवा पीढ़ी इस आदत को अपना रही है, जिनमें से कुछ का मानना है कि इससे वो कूल दिखेंगे. धूम्रपान का कम उम्र के युवाओं और किशोरों पर गहरा असर होता है. यह आयु को कम करता है, गंभीर बीमारियों को जन्म देता है और सुखद एवं स्वस्थ जीवन की उनकी संभावना को बर्बाद कर देता है. इसलिए हम धूम्रपान करने वालों को इसके प्रभावों के बारे में सचेत करने को अपनी जिम्मेवारी मानें और उनसे धूम्रपान छोड़ने की अपील करें."

आईएएनएस/आईबी

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन