मेक्सिको में अपराधियों को उन्हीं की भाषा में जवाब | दुनिया | DW | 14.12.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मेक्सिको में अपराधियों को उन्हीं की भाषा में जवाब

जहां काम न हो अपराध और अपहरण का धंधा फलता फूलता है. मेक्सिको भी अपवाद नहीं. लेकिन आम लोगों ने फैसला किया है कि वे पुलिस और प्रशासन की निष्क्रियता को चुपचाप स्वीकार नहीं करेंगे.

दक्षिण मेक्सिको के शहर सान मिगेल टोटोलापान में अपराधियों के एक गिरोह ने एक इंजीनियर को बंधक बना लिया. वहां के निवासियों को जब पुलिस से मदद की आस नहीं रही तो उन्होंने इंजीनियर को रिहा कराने के लिए गिरोह के कई सदस्यों को बंधक बना लिया. उनमें गिरोह के मुखिया की मां भी शामिल है. पुलिस ने आम लोगों और अपराधियों के बीच झगड़े से बचने के लिए सान मिगेल टोटोलापान में 220 सैनिकों और पुलिसकर्मियों को तैनात किया है.

इंजीनियर को संदिग्ध रूप से लोस टेकिलेरोस नाम के गुट द्वारा बंधक बनाए जाने के बाद शहर के लोगों ने रविवार को एक विजिलांटे ग्रुप बना लिया. इसी गिरोह ने पिछले महीने सान खेरोनिमो गांव के 12 लोगों का अपहरण कर लिया था. उनमें से सिर्फ पांच लोगों को छोड़ा गया है.

सान मिगेल टोटोलापान के निवासियों ने ऐसे लोगों को हिरासत में ले लिया है जिनके बारे में उनका मानना है कि वे अल टेकिलेरो के नाम से कुख्यात रेबेल खाकोबो डे अलमोंटे के गिरोह की मदद करते हैं. अगवा इंजीनियर की पत्नी ने एक स्थानीय टेलिविजन चैनल पर आकर अलमोंटे से अपने पति को रिहा करने की मांग की. यादिरा गिलेर्मो गार्सिया ने कहा, "हमारे पास तुम्हारी मां है मिस्टर अल टेकिलेरो. मैं अदला बदली की मांग करती हूं. मेरे पति की जान के बदले मैं तुम्हारी मां को वापस कर दूंगी. मैं अपने पति को सुरक्षित और स्वस्थ देखना चाहती हूं."

स्थानीय मीडिया के अनुसार शहर के लोगों ने 24 लोगों को पकड़ा था, लेकिन उनमें से पांच को छोड़ दिया गया है. सरकार ने दोनों पक्षों के बीच सुलह के लिए एक टीम बनाई थी. सरकार का कहना है कि अल टेकिलेरो की मां और इंजीनियर की अदला बदली का समझौता हो गया है. यू ट्यूब पर जारी एक वीडियो में शहर के विजिलांटे गुट को हथियारों के साथ देखा जा सकता है. उनका कहना है कि उन्होंने लोस टेकिलेरोस के अपराधों का सामना करने के लिए हथियार उठाया है. एक सदस्य ने कहा, "उन्होंने हमें अपमानित किया है, हमारे परिवारों को मारा है. हम ऐसा फिर कभी नहीं होने देंगे."

मेक्सिको पिछले दस साल से संगठित अपराध के खिलाफ सैन्य संघर्ष चला रहा है. इस दौरान हालांकि बहुत से गिरोहों के सरगना पकड़े गए हैं या मार डाले गए हैं लेकिन देश में अपराध और सुरक्षा की स्थिति में बहुत सुधार नहीं हुआ है. इस साल के पहले 11 महीनों में मेक्सिको में करीब 15,000 लोग मारे गए हैं जिनमें से 60 फीसदी संगठित अपराध के सिलसिले में मारे गए हैं. संगठित अपराध अब उन इलाकों में भी फैल रहा है जहां वह पहले नहीं हुआ करता था. ड्रग वार के लिए बदनाम मिचोआकान के पड़ोसी प्रांत कोलिमा में पिछले साल के मुकाबले 900 फीसदी ज्यादा लोगों की हत्या हुई है.

एमजे/एके (एएफपी)

संबंधित सामग्री

विज्ञापन