मेकअप मैराथन में महिलाएं | मनोरंजन | DW | 24.12.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मेकअप मैराथन में महिलाएं

ब्रिटेन की एक रिसर्चर का दावा है कि महिलाएं साल भर में 627 घंटे संजने संवरने में लगाती हैं. अपनी पसंद की पोशाक पहनने के बाद वो ज्यादा असमंजस में रहती हैं.

आखिर खूबसूरती के मामले में क्या सोचती हैं महिलाएं. ब्रिटेन में महिलाओं से अगर पूछा जाए कि साल भर में उन्होंने क्या किया तो एक जवाब मिलेगा, मेकअप. कम से कम लाइक्रा ब्यूटी के लिए शोध करने वाली मिशेल डंकन तो यही कहती हैं. डंकन ने ब्रिटेन की 2,000 महिलाओं से बातचीत के आधार पर रिपोर्ट तैयार की है.

इसमें कई चौंकाने वाली बातें सामने आई हैं. मसलन, साल भर में ब्रिटेन की महिलाएं 627 घंटे 28 मिनट खुद को खूबसूरत बनाने पर खर्च करती हैं. इसमें रंग, कद काठी, कील मुहांसे, वजन और बालों की देखभाल भी शामिल है. महिलाएं इन चीजों को लेकर खासी फिक्रमंद रहती हैं.

रिसर्च के मुताबिक महिलाएं हर हफ्ते 50 मिनट अपनी पसंद की पोशाक ट्राइ करने में भी खर्च करती हैं. इसके बाद भी हफ्ते भर में 92 मिनट वो यही सोचती हैं कि पोशाक उन पर वाकई अच्छी लग रही है या नहीं.

90 फीसदी लड़कियां ऐसे कपड़े खरीदती हैं जो उनके शरीर के ऐसे हिस्से को ढंकें, जिसे वो खूबसूरत नहीं मानतीं. अंडरगार्मेंट खरीदने में भी महिलाओं को हर हफ्ते 39 मिनट माथापच्ची करनी पड़ती है.

ओएसजे/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

संबंधित सामग्री