1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
USA | US-Präsident Donald Trump will App Tiktok verbieten
तस्वीर: picture-alliance/AP Images/Star Max/D. V. Tine

मुझे अभी चीन से कोई बात नहीं करनी: ट्रंप

१९ अगस्त २०२०

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन के साथ व्यापार वार्ता रद्द कर दी है. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले ट्रंप के चीन विरोधी तेवर लगातार तीखे होते जा रहे हैं. वह कोरोना महामारी के लिए अब भी चीन को जिम्मेदार मान रहे हैं.

https://www.dw.com/hi/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%9D%E0%A5%87-%E0%A4%85%E0%A4%AD%E0%A5%80-%E0%A4%9A%E0%A5%80%E0%A4%A8-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%8B%E0%A4%88-%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%A4-%E0%A4%A8%E0%A4%B9%E0%A5%80%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%9F%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%82%E0%A4%AA/a-54619657

चीन के साथ पहले चरण की व्यावार वार्ता की निर्धारित समीक्षा को टाले जाने के कुछ दिनों बाद ट्रंप ने व्यापार वार्ता को रद्द करने का फैसला किया है. मंगलवार को एरिजोना जाते वक्त उन्होंने पत्रकारों से कहा, "अभी मुझे उनके साथ कोई डील नहीं करनी है. उन्होंने जो कुछ इस देश के साथ और पूरी दुनिया के साथ किया है, उसे देखते हुए मैं अभी चीन से कोई बात नहीं करना चाहता."

एक बार फिर कोरोना महामारी के लिए चीन को जिम्मेदार बताते हुए ट्रंप ने कहा, "उन्हें इसको रोकना चाहिए था, तो फिर ठीक है, मैं चीन के साथ वार्ता को रद्द करता हूं." इसके एक दिन पहले ही ट्रंप ने चीन की तारीफ की थी क्योंकि वह अमेरिका से कृषि उत्पाद खरीद रहा है. राष्ट्रपति ट्रंप के व्यापार सलाहकार पेटर नवारो ने भी कहा था कि चीन के साथ पहले चरण की डील "सही रास्ते पर" है.  

ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद से ही अमेरिका और चीन के रिश्तों में तनाव है. शुरू में व्यापार और बौद्धिक संपदा को लेकर विवाद इस तनाव का कारण थे. लेकिन कोरोना महामारी इस तनाव को नए स्तर पर ले गई. इसके अलावा दोनों देशों के बीच हांगकांग की स्वायत्तता, चीन में "उइगुर अल्पसंख्यकों के दमन", साउथ चाइना सी में चीन का सैन्य विस्तार और चीनी कंपनियों पर अमेरिकी कार्रवाई जैसे मुद्दे भी विवाद का कारण रहे हैं. 

ये भी पढ़िए: कैसे अमेरिका को चुनौती देने वाली महाशक्ति बन गया चीन

दोनों देशों के बीच जनवरी में पहले चरण की व्यापारिक वार्ता के बाद समझौता हुआ था जिसके तहत चीन को अमेरिका से बड़ी मात्रा में कृषि उत्पाद खरीदने थे. चीन ऐसा कर भी रहा है, लेकिन जितना लक्ष्य तय किया गया था, उस तक पहुंचना कोरोना महामारी के कारण शायद संभव नहीं होगा. अमेरिकी टीवी चैनल सीएनबीसी के साथ बातचीत में नवारो ने अमेरिकी कृषि उत्पाद खरीदने के लिए चीन की तारीफ की, लेकिन उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि चीन का नेतृत्व अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टी के साथ मिलकर ट्रंप को सत्ता से बाहर करने की कोशिश कर रहा है. 

जब ट्रंप से एरिजोना में पूछा गया कि क्या वह चीन के साथ ट्रेड डील से पीछे हट सकते हैं, तो उन्होंने कहा कि वह देखेंगे. मंगलवार को एरिजोना और आयोवा का दौरा करते हुए ट्रंप ने फिर चीन को निशाना बनाया कि वह महामारी को काबू नहीं कर पाया. 

लगभग 55 लाख मामलों के साथ अमेरिका कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा शिकार बना है. वहां इस घातक वायरस ने अब तक 1.71 लाख लोगों की जान ली है. नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप को इस मुद्दे पर विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के सवालों का सामना करना होगा. हालांकि ट्रंप महामारी से निपटने में अपनी पीठ थपथपाने का कोई मौका नहीं चूकते और इस संकट के लिए हर बार चीन को कठघरे में खड़ा करते हैं. डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से जो बाइडेन को औपचारिक तौर पर राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी मिलने के बाद अमेरिकी राजनीति में चीन की चर्चा आने वाले दिनों में और तेज होगी.

एके/एए (डीपीए, रॉयटर्स, एएफपी) 

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

ये भी पढ़िए: कैसा है चीन से निकला कोरोना वायरस

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

Symbolbild #me too

#मीटू: अमेरिका से निकली चिंगारी से लगी पूरी दुनिया में आग

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं