1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें

मिस्र में मजाक बन गई अरब वसंत की क्रांति

निखिल रंजन
११ फ़रवरी २०२१

10 साल पहले अरब वसंत ने ट्यूनीशिया के बाद मिस्र में होस्नी मुबारक को अपना शिकार बनाया. एक महीने के भीतर दूसरी तानाशाही सरकार के गिरने से दुनिया में हलचल मच गई, ऐसा लगा जैसे अब पूरा अरब जगत लोकतंत्र के रास्ते पर चल पड़ेगा. हालांकि इस उम्मीद को ध्वस्त होने में ज्यादा देर नहीं लगी. मिस्र से मुबारक जरूर गए लेकिन तानाशाही नहीं.

https://www.dw.com/hi/%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%95-%E0%A4%AC%E0%A4%A8-%E0%A4%97%E0%A4%88-%E0%A4%85%E0%A4%B0%E0%A4%AC-%E0%A4%B5%E0%A4%B8%E0%A4%82%E0%A4%A4-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%A4%E0%A4%BF/video-56531467

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

डॉक्टर स्वांते पेबो

आदिमानव का जीनोम खोजने वाले वैज्ञानिक को नोबेल पुरस्कार

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं