महिला अंतरिक्ष यात्री को हुई कपड़े की समस्या | लाइफस्टाइल | DW | 27.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

लाइफस्टाइल

महिला अंतरिक्ष यात्री को हुई कपड़े की समस्या

कपड़ों की समस्या महिलाओं के लिए आम बात है लेकिन नासा को भी इससे जूझना पड़ा है. नासा ने ऑल वूमन स्पेसवॉक कार्यक्रम को सिर्फ इसलिए रद्द कर दिया है क्योंकि महिला अंतरिक्ष यात्री के पास सही साइज का स्पेस सूट नहीं था.

Astronauten auf der ISS | Christina Koch & Nick Hague & Anne McClain (picture-alliance/dpa/NASA)

अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री निक हेग (बाएं), क्रिस्टीन कॉख (मध्य) और एनी मैकक्लेन (दाएं) स्पेसवॉक की तैयारियां करते हुए.

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा लंबे समय से ऑल फीमेल स्पेसवॉक कार्यक्रम की तैयारी कर रही थी. लेकिन अब उसने इस कार्यक्रम को महिला अंतरिक्ष यात्रियों के लिए सही साइज का स्पेससूट ना मिल पाने के कारण रद्द कर दिया है. अब स्पेसवॉक के लिए एक महिला और एक पुरूष अंतरिक्ष यात्री को भेजा जाएगा.

नासा ने एक ट्वीट में कहा था कि शुक्रवार को अंतरिक्ष यात्री ऐनी मैकक्लेन और क्रिस्टीना कॉख को स्पेस वॉक के लिए भेजा जाएगा. लेकिन अब मैकक्लेन की जगह उनके पुरुष सहकर्मी निक हेग को भेजा जाना तय हुआ है. नासा ने कहा, "इस मिशन के प्रबंधकों ने स्पेससूट के चलते इस कार्यक्रम में फेरबदल करने का फैसला लिया है." एजेंसी ने बताया कि मैकक्लेन को अपनी स्पेसवॉक में अंदाजा हुआ था कि उन्हें मीडियम साइज का स्पेससूट अच्छे से फिट बैठेगा. लेकिन शुक्रवार तक केवल एक ही मीडियम साइज सूट क्रिस्टीना के लिए तैयार किया जा सकता है.

नासा की ओर से साफ किया गया है कि मिशन में फेरबदल का फैसला मैकक्लेन से पिछले हफ्ते की स्पेसवॉक के बाद हुई बातचीत में लिया गया. मैकक्लेन की प्रवक्ता ने ट्वीट कर बताया, "मैकक्लेन ने मीडियम और लार्ज दोनों ही साइज में ट्रेनिंग ली थी. पहले वह सोच रही थीं कि लार्ज साइज बेहतर रहेगा लेकिन हाल में हुई स्पेसवॉक में उन्हें मीडियम साइज ज्यादा बेहतर लगा. इसलिए स्पेससूट पर परेशानी से बेहतर था कि स्पेसवॉकर को बदल दिया जाए."

एए/एमजे (डीपीए, रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री

विज्ञापन