मलेशिया में खत्म होगी मौत की सजा | दुनिया | DW | 13.10.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मलेशिया में खत्म होगी मौत की सजा

मलेशिया ने मौत की सजा को खत्म करने का फैसला किया है. इससे मलेशिया की जेलों में कैद उन 1,200 लोगों को भी राहत मिलेगी है जिन्हें सजा ए मौत सुनाई जा चुकी है.

मलेशिया में अभी तक हत्या, अपहरण, हथियार रखने और नशीले पदार्थों की तस्करी जैसे अपराधों में मौत की सजा अनिवार्य थी. वहां पर मौत की सजा फांसी पर लटका कर दी जाती है. लेकिन अब मलेशिया की सरकार मौत की सजा को खत्म करने जा रही है.

मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने इसे एक बड़ी 'खुशखबरी' बताया है. संगठन के एशिया उप निदेशक फिल रॉबर्ट्सन ने उम्मीद जताई है कि इलाके के और देश भी मलेशिया के नक्श ए कदम पर चलेंगे. दक्षिण पूर्वी एशिया में इंडोनेशिया, सिंगापुर और थाईलैंड जैसे देशों में भी मौत की सजा का प्रावधान है.

मलेशिया के संचार और मल्टीमीडिया मंत्री गोबिंद सिंह देव गोबिंद का कहना है कि देश के लोगों ने दिखाया है कि वे मौत की सजा के खिलाफ हैं और इसीलिए सरकार ने इसे खत्म करने का फैसला लिया है. उन्होंने एएफपी को बताया, "उम्मीद है कि जल्द ही कानून में संशोधन होगा."

वहीं एक अन्य मंत्री लीएव वुई ने कहा है कि उन लोगों की सजा पर भी अमल नहीं होगा जिन्हें पहले से सजा ए मौत दी जा चुकी है और वे जेलों में बंद हैं. 'स्टार' नाम के एक अखबार ने उनके हवाले से लिखा, "चूंकि हम इस सजा को ही खत्म कर रहे हैं तो किसी को भी फांसी पर नहीं चढ़ाया जाना चाहिए."

मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने सरकार के कदम को 'उत्साहवर्धक संकेत' बताया है. संस्था ने एक बयान में कहा, "अब और समय नहीं बर्बाद किया जाना चाहिए. मौत की सजा को बहुत पहले ही इतिहास की किताबों में कैद कर दिया जाना चाहिए था."

मलेशिया में मौत की सजा पर रोक लगाने के फैसले का असर उन दो महिलाओं के मामले पर भी होगा जिन पर उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के सौतेले भाई की हत्या के आरोप हैं.

जिन 23 देशों में मौत की सजा दी जाती है, उनमें मलेशिया को एमनेस्टी इंटरनेशनल ने अप्रैल 2017 में 10वीं रैंकिंग दी थी. 'न्यू स्टैट्स टाइम्स' अखबार के अनुसार मलेशिया में 2007 से 2017 के बीच 35 लोगों को फांसी पर लटकाया गया. अभी मलेशिया में जेलों में ऐसे 1,267 लोग हैं जिन्हें मौत की सजा सुनाई गई है.

चीन में सबसे ज्यादा लोगों को मौत की सजा दी जाती है. हालांकि इससे जुड़े आकंड़े कभी सामने नहीं आते. चीन को छोड़कर बाकी दुनिया में 2017 के दौरान कुल 993 लोगों को मृत्युदंड दिया गया. इनमें से 84 प्रतिशत लोगों को ईरान, सऊदी अरब, इराक और पाकिस्तान में मौत की सजा दी गई.

एके/ओएसजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन