मलर रिपोर्ट ट्रंप के लिए कोई राहत नहीं | ब्लॉग | DW | 25.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

ब्लॉग

मलर रिपोर्ट ट्रंप के लिए कोई राहत नहीं

जांचकर्ता रोबर्ट मलर की रिपोर्ट में राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और रूस के बीच कोई चुनावी सांठगांठ नहीं पाई गई है. डॉयचे वेले की अलेक्जांड्रा फॉन नामेन का कहना है कि यह रिपोर्ट ट्रंप के कार्यकाल के लिए कोई मोड़ नहीं है.

जांचकर्ता रोबर्ट मलर की रिपोर्ट उन सब लोगों के लिए निराश करने वाली है जो उम्मीद कर रहे थे कि रूस कांड राष्ट्रपति ट्रंप के कार्यकाल के अंत की शुरूआत होगा. मलर ने लगभग दो साल तक खोजा, लेकिन उन्हें 2016 के राष्ट्रपति चुनावों को प्रभावित करने के लिए ट्रंप और उनकी चुनाव टीम की रूस के साथ साठगांठ का कोई सबूत नहीं मिला.

यहां तक कि राष्ट्रपति के बेटे डॉनल्ड ट्रंप जूनियर और दूसरे सलाहकारों की क्रेमलिन के साथ संपर्क वाली रूसी वकील के साथ हुई भेंट, जिसका मकसद हिलेरी क्लिंटन को नुकसान पहुंचाने वाली जानकारी हासिल करना था, वह भी विशेष जांचकर्ता की नजर में अपराध की देहरी लांघ नहीं पाई.

ट्रंप ने जताई निराशा

रविवार को राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की प्रतिक्रिया इसके अनुरूप ही थी. कानून मंत्री द्वारा रिपोर्ट का सारांश अमेरिकी कांग्रेस को भेजे जाने के बाद उन्होंने ट्वीट किया, "पूरी निराशा." अपने वीकएंड हाउस पर राष्ट्रपति आक्रोश में दिखे. उन्होंने कहा कि ये शर्मनाक है कि देश और उन्हें व्यक्तिगत तौर पर जांच का शिकार होना पड़ा है. जांच, कम से कम ट्रंप की राय में, जिसका मकसद शुरू से ही उन्हें खत्म करना था.

इसमें ये बात दब गई है कि राजनीतिक संस्कृति के परंपरागत मापदंडों के आधार पर डॉनल्ड ट्रंप इस घटना में बेदाग नहीं बचे हैं. कम से कम उनके बेटे रूसी सरकारी हलकों से मदद लेने के लिए तैयार थे, भले ही आखिर में ये नहीं हुआ हो, उनके ऊपर उतनी ही खराब रोशनी डालती है जितना ये तथ्य कि उनके चुनाव मैनेजर पॉल मैनाफोर्ट सालों तक क्रेमलिन के नजदीकी उद्योगपति की सेवा में थे और उनके चुनाव में मदद देने वाले कई लोगों को जांच के सिलसिले में झूठ बोलने के लिए सजा दी गई.

von Nahmen Alexandra Kommentarbild App

अलेक्जांड्रा फॉन नामेन

कम हुई जनमत की दिलचस्पी

विपक्षी डेमोक्रैट्स कितना भी खुश हों, ट्रंप काल में स्कैंडल का पैमाना सामान्य समय की तुलना में बहुत ऊंचा हो गया है. ट्रंप को अनंत छोटे बड़े स्कैंडलों की मदद से इस बात में सफलता मिली है कि स्कैंडलों में अमेरिकी जनमत की दिलचस्पी कम हो गई है. इसलिए मलर की रिपोर्ट में जो भी लिखा हो, अब वे जांचकर्ता की रिपोर्ट को अपनी जीत बता सकते हैं. "देखो, मैंने हमेशा कहा था कि ये सब मुझे पद से हटाने के लिए था."

लेकिन इस पल भले ही राष्ट्रपति अपने को सही समझें, यदि वे समझते हैं कि उनके लिए सुखकर रिपोर्ट के साथ उनकी सारी समस्याएं खत्म हो गई हैं तो वे गलती कर रहे हैं. जहां तक न्याय प्रक्रिया में बाधा डालने का आरोप है तो मलर ने उसके पर कोई स्पष्ट नतीजा नहीं निकाला है. रिपोर्ट ये नहीं कहती कि राष्ट्रपति ने कोई अपराध नहीं किया, लेकिन उन्हें राहत भी नहीं देती. नतीजतन डेमोक्रैट सारी रिपोर्ट पाने और उसे प्रकाशित करने की कोई कोशिश छोड़ेंगे नहीं.

बाधा डाली या नहीं

इस बीच कांग्रेस में कई जांच समितियां और ट्रंप के शहर न्यू यॉर्क में सरकारी वकील कार्यालय ट्रंप के कारोबार में अनियमितताओं की जांच कर रहे हैं. उनमें से किसी का भी नतीजा ये नहीं होगा कि राष्ट्रपति को उनके पद से हटाया जा सके. लेकिन उनका कार्यकाल समाप्त होने के बाद इन जांचों के कारण उन पर मुकदमा चलाया जा सकेगा.

राजनीतिक तौर भी उन्हें चल रही जांच नुकसान पहुंचा सकती है. भले ही उनके पक्के समर्थक उनके साथ हैं और बाकी देश निराश हो रहा हो, बहुत से अमेरिकी देश के सर्वोच्च प्रतिनिधि को रोजाना स्कैंडलों का हिस्सा देखकर परेशान हैं. और यदि डेमोक्रैट अगले चुनावों में सचमुच कोई प्रतिष्ठित उम्मीदवार खड़ा करते हैं तो बहुत से मतदाता ये सवाल पूछेंगें कि क्या वे और चार साल तक ट्रंप शो चाहते हैं.

DW.COM

विज्ञापन