मदरसा गुरु के अल कायदा से संदिग्ध तार | दुनिया | DW | 08.01.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मदरसा गुरु के अल कायदा से संदिग्ध तार

दिल्ली पुलिस के विशेष दल ने बंगलुरू से एक मदरसे के शिक्षक को आतंकवादी संगठन अल कायदा से संदिग्ध संबंध होने के आरोप में गिरफ्तार किया है. पुलिस को भनक पिछले महीने गिरफ्तार हुए दो अन्य संदिग्धों से पूछताछ के दौरान हुई.

गिरफ्तार हुए व्यक्ति की पहचान मौलवी अनजर शाह के रूप में की जा रही है. शाह को बुधवार रात बंगलुरू में गिरफ्तार किया गया और दिल्ली लाकर स्थानीय पुलिस के विशेष सेल को सौंप दिया गया. अगले दिन शाह को अदालत के सामने पेश किया गया, जिसके बाद उसे पूछताछ के लिए 20 जनवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. दिल्ली पुलिस का यह विशेष सेल भारतीय उपमहाद्वीप में अल कायदा के संचालन के खिलाफ काम कर रहा है.

शाह पर शक है कि उसके संबंध भारतीय उपमहाद्वीप में काम कर रहे अल कायदा के मॉड्यूल से हैं. आरोप है कि उसने अल कायदा के सदस्यों के साथ मुलाकातें भी कीं. इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें इस बारे में जानकारी पिछले एक महीने में मिली. पुलिस अधिकारी के मुताबिक, "जांच की जा रही है. बाकी जानकारी शाह से पूछताछ के दौरान सामने आएगी."

सूत्रों के मुताबिक शाह देश भर में क्रमबद्ध हमलों की साजिश रच रहा था. हिंदुस्तान टाइम्स ने पुलिस के हवाले से लिखा है, "समूह का मकसद कुछ अहम नेताओं और भीड़भाड़ वाले इलाकों और पर्यटक स्थलों पर हमला करना था." शाह को ट्रांसिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया और पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया.

दिल्ली पुलिस के इस विशेष सेल ने दिसंबर में अल कायदा के दो कथित संचालकों जफर मसूद और अब्दुल रहमान को गिरफ्तार किया था. शाह का नाम उनसे पूछताछ के दौरान सामने आया.

पुलिस हिरासत में एक अन्य कथित अल कायदा सदस्य मुहम्मद आसिफ ने भी बंगलुरू में एक धार्मिक सभा में शाह से मिलने की बात स्वीकारी है. आसिफ कथित रूप से भारतीय उपमहाद्वीप में अल कायदा के लिए भर्तियां और ट्रेनिंग का काम करता रहा है. भारतीय मीडिया में रिपोर्टों के मुताबिक शाह अल कायदा सदस्यों को मदद करता रहा है.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन