भ्रष्ट अधिकारियों पर चीन में दिखाया जा रहा टीवी सीरियल सुपरहिट | दुनिया | DW | 18.01.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

भ्रष्ट अधिकारियों पर चीन में दिखाया जा रहा टीवी सीरियल सुपरहिट

चीन के सरकारी चैनल पर दिखाई जा रही इस सीरीज में भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारियों का कथित कबूलनामा दिखाया जा रहा है. बताया जा रहा है कि किस तरह वे लाखों-करोड़ों की रिश्वत लेते थे.

China | Sun Lijun

सन लिजुन

चीन की राजधानी बीजिंग में एक आलीशान ठिकाना. मछलियों, केकड़ों, झींगों जैसे सीफूड के बक्सों में छुपाए गए लाखों-करोड़ों डॉलर. ये सब चीन के सरकारी चैनल सीसीटीवी द्वारा प्रसारित की जा रही एक टीवी सीरीज का हिस्सा हैं. पांच किस्तों की इस सीरीज में भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारियों का कथित कबूलनामा दिखाया जा रहा है. यह सीरीज चीन की सरकार द्वारा चलाए जा रही भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का हिस्सा है. इन दिनों चीन में इस सीरीज की खूब चर्चा है.

10 लाख से अधिक अधिकारियों को मिल चुकी है सजा

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग पिछले कुछ सालों से भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी मुहिम चला रहे हैं. इसके तहत कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े कई लोग गिरफ्तार किए गए हैं. खबरों के मुताबिक, जिनपिंग के कार्यकाल में अब तक भ्रष्टाचार से जुड़े आरोपों के तहत 10 लाख से अधिक अधिकारियों को सजा दी जा चुकी है. आलोचकों का कहना है कि यह भ्रष्टाचार विरोधी अभियान  2013 में सत्ता संभालने के बाद से ही जिनपिंग के लिए अपने राजनीतिक दुश्मनों और आलोचकों को हटाने का भी जरिया बन रहा है.

China - Neujahresansprache Xi Jinpin

शी जिनपिंग

पूर्व मंत्री का कबूलनामा भी शामिल

टीवी सीरीज में जिन आरोपी अधिकारियों के कथित कबूलनामे दिखाए जा रहे हैं, उनमें एक नाम पूर्व जन सुरक्षा मंत्री सन लिजुन भी शामिल हैं. हांगकांग में चले विरोध प्रदर्शनों और लोकतंत्र समर्थक अभियान के दौरान वहां की सुरक्षा का जिम्मा सन लिजुन पर ही था. उनपर कई आरोप हैं. इनमें रिश्वतखोरी, स्टॉक मार्केट में गड़बड़ करना, अवैध हथियार रखना और पैसा देकर सेक्स करने जैसे इल्जाम शामिल हैं.

सीसीटीवी पर दिखाई गई सीरीज के मुताबिक, सन ने करीब 1.4 करोड़ डॉलर की रिश्वत ली. सीरीज का दावा है कि उन्हें सीफूड के छोटे बक्से में छुपाकर रिश्वत पहुंचाई गई. आरोप है कि रिश्वत पहुंचाने वाले शख्स को लिजुन ने बाद में पूर्वी ज्यांगशु प्रांत का पुलिस प्रमुख बना दिया. सीरीज के एक एपिसोड में लिजुन को कहते दिखाया गया है, "मैंने उसकी मदद की."

पहले भी दिखाए जाते रहे हैं ऐसे कार्यक्रम

यह पहली बार नहीं है जब सीसीटीवी इस तरह के आरोपियों का कथित कबूलनामा प्रसारित कर रहा हो. वह पहले भी ऐसा करता रहा है. कई बार ऐसा भी हो चुका है कि आरोपी अधिकारियों को अदालत में पेश किए जाने से पहले ही सीसीटीवी पर उनका बयान दिखा दिया जाता है. इन बयानों में आरोपी खुद पर लगे आरोप स्वीकार करते नजर आते हैं. मानवाधिकार संगठन ऐसे मामलों की निंदा करते हैं.

इसी सीरीज के एक और एपिसोड में 'चाइना असोसिएशन फॉर साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी' के चेंग गांग का भी बयान दिखाया गया. गांग अभी कैद में हैं. आरोप है कि उन्होंने गलत तरीके से पैसे कमाए और, इन पैसों से 72 हजार वर्ग मीटर में फैला एक आलीशान घर बनवाया. इसमें स्विमिंग पूल और कृत्रिम समुद्र तट भी था. इस सीरीज में रिश्वतखोरी के आरोपी और भी कई पूर्व अधिकारियों को दिखाया गया है.

मौत की भी सजा

ऐसे मामलों में जिन आरोपियों पर आरोप साबित हो चुके हैं, उनकी सारी संपत्ति छीन ली गई है. साथ ही, उनकी कम्युनिस्ट पार्टी की सदस्यता भी खत्म कर दी गई है. ऐसे लोगों को जीवन भर जेल में रहना होगा. यह भी संभव है कि उन्हें मौत की सजा दी जाए. सीरीज के दूसरे एपिसोड में वांग फुयू नाम के पूर्व अधिकारी का कथित कबूलनामा दिखाया गया था. इस एपिसोड के प्रसारित होने के एक दिन बाद ही फुयू को मौत की सजा सुना दी गई.

दर्शकों की प्रतिक्रिया

चीन में इस कार्यक्रम को करोड़ों दर्शक देख रहे हैं. वहां सोशल मीडिया पर इस सीरीज को लेकर काफी बातें हो रही हैं. लाखों लोग सोशल मीडिया पर इस सीरीज की समीक्षा में लगे हैं. ज्यादातर लोग आरोपियों द्वारा किए गए कथित भ्रष्टाचार से गुस्से में हैं. एक आरोपी अधिकारी के बयान पर प्रतिक्रिया करते हुए एक दर्शक ने सोशल मीडिया पर लिखा, "उसे देखकर ऐसा नहीं लग रहा था कि उसको अपने किए पर कोई पछतावा था. बल्कि वह तो आलीशान जिंदगी जी रहा था." कुछ लोगों ने यह आशंका भी जताई कि आरोपियों की कहानी दिखाते हुए इतनी ज्यादा दौलत दिखाने पर शायद कुछ लोग भ्रष्टाचार के लिए आकर्षित होंगे.

एसएम/एनआर (एएफपी)

DW.COM