भारत में सऊदी राजनयिक पर बलात्कार का आरोप | दुनिया | DW | 09.09.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

भारत में सऊदी राजनयिक पर बलात्कार का आरोप

दो नेपाली महिलाओं ने एक सऊदी राजनयिक पर प्रताड़ना और बलात्कार का आरोप लगाया है. मामले की शिकायत दर्ज करने के बावजूद पुलिस ने डिप्लोमैटिक इम्यूनिटी के चलते आरोपी की पहचान उजागर नहीं की है.

30 और 50 साल की ये दोनों महिलाएं राजधानी दिल्ली के बाहर स्थित इस राजनयिक के घर पर काम कर रही थीं. पुलिस में असिस्टेंट कमिश्नर राजेश कुमार ने बताया कि उन्होंने पुलिस में उस राजनयिक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.

Bildergalerie Kinderheirat in Südasien

नेपाल में कई जगहों पर लड़कियों की शादी 10 साल की उम्र तक ही कर दिए जाने का रिवाज है.

नेपाली महिलाओं का कहना है कि उन्हें एक घर में कैद करके रखा गया और उनके साथ कई बार दुर्व्यवहार हुआ. नेपाली दूतावास से इसकी जानकारी मिलने पर सोमवार देर शाम महिलाओं को गुड़गांव स्थित इस महंगे निवासस्थान से पुलिस की टीम ने मुक्त कराया.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "हमने उनकी शिकायत के आधार पर बलात्कार, सोडोमी और अवैध कारावास में रखे जाने का मामला दर्ज कर लिया है." असिस्टेंट कमिश्नर कुमार ने कहा, "उन्होंने यह भी बताया है कि उस घर में आने वाले मेहमानों ने भी उनका बलात्कार किया. यही कारण है कि हमने आरोपों की सूची में गैंग रेप को भी जोड़ा है."

राजधानी दिल्ली स्थित सऊदी दूतावास से अब तक कोई बयान नहीं लिया जा सका है. पुलिस अभी यह पता करने की कोशिश कर रही है कि क्या इन सऊदी अधिकारियों को डिप्लोमैटिक इम्यूनिटी मिली हुई है. मामले की जांच शुरु करने से पहले यह जानना जरूरी है क्योंकि डिप्लोमैटिक इम्यूनिटी राजनयिकों को मिलने वाला एक तरह की प्रतिरक्षा होती है. इसके अंतर्गत उन्हें मेजबान देश के कानूनों के अनुसार किसी मुकदमे या अभियोग से मुक्ति मिली होती है हालांकि उन्हें निष्कासित किया जा सकता है.

Nepal Kavre Erdbeben Flüchtlingslager

नेपाल में आए भीषण भूकंप के कारण हजारों लोग बेघर हो गए और उनका जीवन यापन कठिन हो गया.

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि वे सऊदी अरब और नेपाल दोनों ही दूतावासों के संपर्क में बने हुए हैं. अधिकारी ने बताया कि उन्होंने स्थानीय पुलिस से मामले की विस्तृत रिपोर्ट मंगवाई है. न्यूज चैनल एनडीटीवी से बात करते हुए मुक्त कराई गई दो में एस महिला ने बताया है कि उन्हें गुड़गांव के अपार्टमेंट में करीब चार महीने से बंद रखा गया था. महिला ने बताया, "उन्होंने हमसे बलात्कार किया, बंद करके रखा और कुछ खाने को नहीं दिया. जब हमने भागने की कोशिश की तो हमारी पिटाई की गई."

पुलिस के साथ दर्ज की शिकायत में महिलाओं ने बताया है कि उन्हें जेद्दा से दिल्ली के एक होटल में काम करने के लिए लाया गया था. हर साल नेपाल के हजारों लोग काम की तलाश में भारत समेत कई अरब देशों में जाते हैं. भारत में नेपाली राजदूत दीप उपाध्याय ने बताया, "हम पुलिस की जांच पूरी होने का इंतजार कर रहे हैं." दोनों महिलाएं कल नेपाल के लिए रवाना होंगी.

आरआर/आईबी (एएफपी,डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन