भारत में चुनाव के तीसरे चरण का मतदान शुरू | दुनिया | DW | 23.04.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

भारत में चुनाव के तीसरे चरण का मतदान शुरू

सात चरणों वाले लोकसभा चुनाव के तीसरे और सबसे बड़े चरण में 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 117 सीटों के लिए मंगलवार को मतदान शुरू हुआ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस चरण में गुजरात जाकर वोट डाला.

लोकसभा चुनाव के तीसरे और सबसे बड़े चरण में गुजरात की सभी 26 सीटों, केरल की सभी 20 सीट समेत महाराष्ट्र और कर्नाटक की 14 सीटों पर मतदान हो रहा है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश की 10 सीटों के लिए, छत्तीसगढ़ की सात, ओडिशा की छह, असम की चार, बिहार और पश्चिम बंगाल की पांच-पांच सीटों और जम्मू कश्मीर, दादरा व नगर हवेली और दमन और दीव की एक-एक सीट के लिए वोट डाले जा रहे हैं.

सुबह 7 बजे से ही पोलिंग बूथों पर लोगों की आवाजाही शुरू हो गई थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने गृह राज्य गुजरात में वोट डालने पहुंचे, हालांकि वह स्वयं उत्तर प्रदेश की बनारस सीट से चुनाव मैदान में हैं. रविवार को श्रीलंका में हुए बम धमाकों पर मोदी ने कहा, "आतंकवादियों के हथियार आईईडी से ज्यादा ताकत लोकतंत्र में मतदाता के पहचानपत्र (वोटर आईडी कार्ड) की होती है. मैं पूरे भरोसे के साथ कह सकता हूं कि वोटर आईडी हर कीमत पर आईईडी से ज्यादा ताकतवर होता है."

इसके अलावा त्रिपुरा पूर्व में भी मतदान हो रहा है, जहां 18 अप्रैल को दूसरे चरण में मतदान होना था लेकिन सुरक्षा कारणों से चुनाव आयोग द्वारा इसे स्थगित कर तीसरे चरण के लिए तय कर दिया गया था. इस चरण के मतदान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की किस्मत का फैसला करेंगे जो गुजरात के गांधीनगर से चुनावी मैदान में हैं. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की वायनाड सीट पर भी आज ही मतदान हो रहा है. जिन 117 सीटों पर आज वोट डाले जा रहे हैं उनमें से 62 सीटों को 2014 के चुनाव में बीजेपी ने जीती थी. सात चरणों का लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल को शुरू हुआ था और 19 मई को समाप्त होगा. इसके बाद मतगणना 23 मई को होगी.

वहीं जैसे-जैसे चुनाव का खुमार चढ़ रहा है, वैसे-वैसे नेताओं की जुबानी जंग भी तेज हो रही है. इसी कारण पिछले हफ्ते चुनाव आयोग ने घृणा भरी भाषा के इस्तेमाल के चलते कई पार्टियों के बड़े राजनेताओं पर कार्रवाई की. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपने मुस्लिम-विरोधी बयानों के लिए तीन दिन तक चुनावी प्रचार से दूर रहने का आदेश दिए गए. वहीं बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती पर भी मुस्लिम समुदाय से वोट मांगने की अपील के चलते 48 घंटे तक चुनाव प्रचार से दूर रहने के आदेश दिए गए हैं.

एए/आरपी (आईएएनएस, रायटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन