भारत का टैरिफ में इजाफा करना अमेरिका को अस्वीकार्य | दुनिया | DW | 27.06.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

भारत का टैरिफ में इजाफा करना अमेरिका को अस्वीकार्य

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के ठीक पहले टैरिफ मुद्दे को उछाला है. अपने एक ट्वीट में ट्रंप ने कहा कि भारत टैरिफ में बढ़ोतरी कर रहा है जो पूरी तरह से अस्वीकार्य है.

हाल में भारत ने 28 अमेरिकी उत्पादों पर टैरिफ में इजाफा किया था. हालांकि इसके पहले अमेरिका की ओर से भारत का जीपीएस दर्जा समाप्त किया गया था, जिसके बाद दोनों देशों के बीच कारोबारी तनातनी तेज हो गई है. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा, "मैं प्रधानमंत्री मोदी से मिलने को उत्सुक हूं. भारत सालों से अमेरिका पर अधिक टैरिफ लगा रहा है और हाल में इसमें वृद्धि की गई है. यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है और इसे वापस लिया जाना चाहिए."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बीच जी-20 सम्मेलन के दौरान मुलाकात होनी है. ट्रंप की इस टिप्पणी पर भारतीय वाणिज्य मंत्रालय की ओर से अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है. कयास लगाए जा रहे हैं कि ट्रंप की ऐसी टिप्पणी दोनों देशों के बीच कारोबारी तनाव और भी बढ़ा सकती है. भारत के दौरे पर आए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेयो ने बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के बाद दोनों देशों के बीच कारोबारी तनाव कम करने को लेकर प्रतिबद्धता जताई थी. हालांकि पोम्पेयो ने ये भी साफ कहा था कि अमेरिकी कंपनियां भारतीय बाजार में ज्यादा पहुंच की हकदार हैं.

अमेरिका ने कुछ वक्त पहले भारत का जीएसपी दर्जा समाप्त कर दिया था. जनरलाइजड सिस्टम ऑफ प्रेफ्रेंस (जीएसपी) दर्जा मतलब प्राथमिकताओं की सामान्यीकृत प्रणाली. यह अमेरिका का कारोबारी प्रोग्राम है जिसे विकासशील देशों की आर्थिक वृद्धि में लाभ पहुंचाने के लिए तैयार किया गया था. इसके तहत भारत को सबसे अधिक लाभ होता था और भारत 5.6 अरब डॉलर तक का ड्यूटी फ्री निर्यात करता था.

______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay |

एए/एके (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन