भारतीय प्रोफ़ेसर ने बनाया गिनीज़ बुक रिकॉर्ड | ताना बाना | DW | 28.06.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

भारतीय प्रोफ़ेसर ने बनाया गिनीज़ बुक रिकॉर्ड

भारत के आंध्र प्रदेश के एक प्रोफ़ेसर ने अपनी किताब के टाइटल के साथ गिनीज़ बुक विश्व रिकॉर्ड बना दिया है. उनकी किताब का नाम 1,086 शब्दों वाला है जिसमें 5633 अक्षरों का प्रयोग हुआ है.

default

महबूबनगर ज़िले में स्थित पालामुरू विश्वविद्यालय में अंग्रेज़ी के एसिस्टेंट प्रोफ़ेसर वंजीपुरम श्रीनाथचारी ने अंग्रेज़ी के 108 मुहावरों, कहावतों, वाक्यांशों और शब्दों के उद्भव और विन्यास पर एक किताब लिखी है, जिसका नाम उन्होंने इतना लंबा रखा है कि विश्व रिकॉर्ड बन गया है.

श्रीनाथचारी की किताब ने अब मिस्र के एसाम मशाली का रिकॉर्ड तोड़ दिया है जिनकी किताब का टाइटल 301 शब्दों का था जिनमें 1518 अक्षर इस्तेमाल हुए थे. श्रीनाथचारी के अनुसार गिनीज़ अधिकारियों ने पिछले महीने इस रिकॉर्ड की पुष्टि कर दी थी लेकिन अब उसकी आधिकारिक घोषणा की है और गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स लंदन द्वारा उपलब्धि का प्रमाणपत्र जारी किया गया है.

श्रीनाथचारी की 125 पृष्ठों वाली अंग्रेज़ी किताब का प्रकाशन पिछले साल 27 सितंबर को हुआ था. उनका कहना है कि नया रिकॉर्ड बनाने के साथ वे इस शाखा में रिकॉर्ड बनाने वाले भारत के पहले एसिस्टेंट प्रोफ़ेसर बन गए हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री

विज्ञापन